23 April 2024

सदर थाना क्षेत्र के जालान अस्पताल में एक बच्चे की मौत के बाद परिजन ने जमकर हंगामा और विरोध प्रदर्शन…

Ad Space

DHANBAD:सदर थाना क्षेत्र के जालान अस्पताल में एक नवजात बच्चे की मौत के बाद परिजन ने जमकर हंगामा और विरोध प्रदर्शन किया।

परिजन ने अस्पताल प्रबंधन पर गलत तरीके से बिल बनाने और मृत बच्चों को नहीं देने का आरोप लगाया है।

महाराजगंज निवासी प्रदीप मंडल ने मीडिया को बताया कि 29 फरवरी को मैं अपनी बच्ची को जालान अस्पताल में भर्ती कराया था क्योंकि बच्चे की सांस लेने में काफी समस्या आ रही थी जिसको लेकर अस्पताल में NICU में भर्ती किया गया और 29 तारीख से लेकर पिछले 2 तारीख तक लगभग 40 हज़ार रूपये से अधिक का मेडिसिन मंगाया गया है

और 2 तारीख तक लगभग 46 हज़ार रुपया का बिल बनाया गया है। जबकि कल मेरी बच्ची की मौत हो गई इसके बावजूद भी डॉक्टर जांच शुल्क बिल में जोड़ा गया है जो कहीं से उचित नहीं है और आज फाइनल बिल लगभग 66 हज़ार का बनाया गया है। जब उक्त बिल की जांच की गई तो काफी कुछ गड़बड़ मेडिसिन का शुल्क जोड़ा गया है.

लेकिन जब इसका हम सब विरोध किया तो उन्होंने कहा कि जब तक पूरा बिल जमा नहीं होंगे तब तक आपका बच्ची का शव नहीं दिया जाएगा। इसलिए मैं न्याय के रूप में मांग करता हूं कि इस तरह की जांच के नाम पर अनाप-शनाप बिल जोड़ने वाले अस्पताल पर सख्त से सख्त कार्रवाई हो। वही मृतक के चाचा दीपक मंडल ने मीडिया को बताया कि यह अस्पताल पूरी तरह से गब्बर इस बैक की तर्ज पर बच्ची का इलाज कर रहे हैं जबकि कई बार मेडिसिन कि बिल मेडिसिन से मिलाया गया तो काफी कम पाया गया लेकिन इसके बावजूद भी हम सब ने अपनी बच्ची को ध्यान में रखते हुए कुछ नहीं बोला लेकिन जब बिल की बात हुई तो उसमें कई सारी अनाप-शनाप बैक डेट में जोड़ा गया है ऐसे में अस्पताल के साथ-साथ डॉक्टर पर से भी विश्वास उठता जा रहा है जबकि डॉक्टर भगवान के रूप होते हैं इसलिए उनको निष्पक्ष भाव से मरीजों की देखभाल करनी चाहिए।

"लगातार धनबाद के ख़बरों के लिए हमारे Youtube चैनल को सब्सक्राइब करे"