18 June 2024

NEWSTODAYJ : झारखंड राज्य की राजनीति चाहे वह पीड़ित परिवार का हो या अन्य कोई मुद्दा पर आप धनबाद के केंदुआ अग्निकांड के विषय मे जानते ही होंगे।इस अग्निकांड में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई थी।जिसके बाद 20 नवंबर को झरिया के MLA विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने पीड़ित परिवार को ₹12 लाख रुपये मुवाबजा दे देने की बात कही थी पर MLA ने केन्दुआ अग्निकांड में क्षति की बात नही कही थी।आज शुक्रवार 1 दिसंबर को पूर्व मंत्री सह धनबाद के पूर्व सांसद चंद्रशेखर दुबे उर्फ ददई दुबे ने केंदुआ अग्निकांड के एक पीड़ित सदस्य अशोक गुप्ता को धनबाद डीसी से मुलाकात करवा कर अग्निकांड में क्षति पूर्ति का मुवाबजा देने की मांग किए।अब प्रश्न उठता है कि क्या? पीड़ित सदस्य अशोक गुप्ता को जब मुवाबजा दी जा रही थी तब उस समय एक से एक दिग्गज नेता मौजूद थे।तो उस समय क्षति पूर्ति की बात कहा दब गई थी।जो आज एक दिसंबर को पुनः उठ गई।क्योंकि पूर्णिमा नीरज सिंह ने खुद यह बात कही है कि केंदुआ बाजार में 13 नवम्बर के अग्नि कांड के पीड़ित परिवार के उत्तरजीवी सुभाष गुप्ता को पुटकी अंचल अधिकारी विकास आनंद की उपस्थिति में ₹12 लाख का मुआवजा राशि का स्वीकृति पत्र सौंपा।आपदा प्रबंधन विभाग से प्रति मृतक 4 लाख रुपए देने का सरकारी प्रावधान के तहत 20 नवंबर को DBT के माध्यम से लाभुक को 12 लाख का भुगतान किया गया। कुछ क्षणों के भीतर जो परिवार बिखर गया हो उसका दुख तो कम नहीं कर सकती पर मानवता और एक जनप्रतिनिधि के दायरे में मुझसे जो भी संभव होगा वह कर्तव्य ज़रूर निभाऊँगी।अब सवाल उठता हैं कि पीड़ित परिवार को मुवाबजा देने समय दिग्गज नेताओं में से किसी ने भी क्षति की बात नही किए थे।उस समय सिर्फ ₹12 लाख रुपये का एक पत्र दिखाकर फोटो खिंचवा रहे थें।और आज एकाएक अब क्षति की बात उठ गई है।इसलिए केंदुआ अग्निकांड राजनीति मुद्दा बन गया है।इस मामले को धनबाद उपायुक्त अपने स्तर से जांच करें कि आखिर पीड़ित परिवार के साथ हुई घटना के बाद मुआबजा मुद्दा क्या? है।

Ad Space

"लगातार धनबाद के ख़बरों के लिए हमारे Youtube चैनल को सब्सक्राइब करे"