18 April 2024

NEWSTODAYJ : (धनबाद डेस्क) आज रविवार 26 नवंबर 2023 को पूरा देश 26/11 आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों और मारे गए लोगों को याद कर रहा है। आज से ठीक 15 साल पहले हुआ मुंबई हमला भारतीय इतिहास का वो काला दिन है जिसे कोई चाह कर भी नहीं भुला सकता।

Ad Space

जीवन में कितना भी आगे क्यूँ न बढ़ गए हो आप पीछे पलट कर 26/11 को ज़रूर याद आएंगी

आतंकियों के हमले में 166 से ज्यादा लोग मारे गए थे और 300 ज्यादा घायल हुए थे।जीवन में कितना भी आगे क्यूँ न बढ़ गए हो आप पीछे पलट कर 26/11 को ज़रूर याद आएंगी. ये ज़ख़्म देश को होशियार रखेगा 3 दिन, 10 पाकिस्तानी आतंकी,166 मासूम नागरिकों की हत्या और न्याय आज भी अपनी घड़ी के इंतज़ार में हैं मनहूस आतंकी आका पल रहे हैं पाकिस्तान की गोद में…इन पर कोई रहम की गुंजाइश न रहे।आतंकियों ने मुंबई पहुंचने के लिए नावों का भी इस्तेमाल किया था। आतंकियों ने मुंबई आने के लिए जिस नाव का इस्तेमाल किया था, उसे लश्कर के आतंकियों ने कराची की एक दुकान से खरीदा गया था।

कुछ लोग मरीन ड्राइव पर रोज की तरह समुद्र से आ रही ठंडी हवा का लुत्फ ले रहे थे

तारीख थी 26 नवंबर 2008 और वक्त था शाम का.मायानगरी मुंबई में हर दिन की तरह चहलकदमी थी।हर के हालात पूरे तरह सामान्य थे। मुंबईकर बाजारों में खरीदारी कर रहे थे। वहीं, कुछ लोग मरीन ड्राइव पर रोज की तरह समुद्र से आ रही ठंडी हवा का लुत्फ ले रहे थे। लेकिन जैसे-जैसे शहर रात के अंधेरे की तरफ बढ़ना शुरू हुआ, वैसे-वैसे इसकी सड़कों पर चीख-पुकार तेज होती चली गई थी।सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच तीन दिनों तक मुठभेड़ चलती रही।

इस दौरान, मुंबई में कई धमाके हुए,

आग लगी, गोलियां चलीं और बंधकों को लेकर उम्मीद टूटती जुड़ती रहीं और न सिर्फ भारत से करोड़ों लोगों की बल्कि दुनिया भर की नजरें ताज, ओबेरॉय और नरीमन हाउस पर टिकी रहीं।29 नवंबर की सुबह तक नौ हमलावरों का सफाया हो चुका था और अजमल कसाब के तौर पर एक हमलावर पुलिस की गिरफ्त में था। स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में आ चुकी थी लेकिन लगभग 166 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी थी।

"लगातार धनबाद के ख़बरों के लिए हमारे Youtube चैनल को सब्सक्राइब करे"