18 June 2024

NEWSTODAYJ : झारखंड राज्य एक ऐसा राज्य है जहाँ अवैध खनन करने के दौरन कोई हादसा होती है तो कंपनी की ओर से दो लाख की मुवाबजा और दो लोगो को नियोजन दी जाती है।मनुष्य के जीवन से बढ़कर मुवाबजा और नियोजन मान्य है।हलाकि जिला प्रशासन और बीसीसीएल की हाई कमान बैठक और CISF की तैनाती ये सभी दिखवा है। बैठक में कई प्रकार का प्रशासनिक तंत्र का योजना बनाई जाती है।लेकिन ये सभी फैल होता दिख रहा है।ताजा मामला तेतुलमारी थाना अंतर्गत बीसीसीएल एरिया पांच अंतर्गत तेतुलमारी कोलियरी में संचालित चेन्नई राधा इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड आउटसोर्सिंग कंपनी परियोजना में अवैध खनन के दौरान चाल धंसने से एक महिला की मौत हो गयी।उसके बाद मृत महिला के परिजन व ग्रामीणों ने शव रखकर जोरदार प्रदर्शन करने लगा।उसके बाद भी प्रशासनिक अधिकारी इसपर कुछ नही बोलना चाहा प्रशासनिक अधिकारियों ने सिर्फ यह कहा कि ऐसा कोई सूचना नही है।अगर अवैध खनन से मौत हुई है तो कार्यवाही की जाएगी।

Ad Space

बीते दिनों ही न्यू टाउन हॉल में जिला प्रशासन,बीसीसीएल के सीएमडी,सीआईएसफ के डीआईजी,अन्य कई विभागों ने अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए हाई लेवल मीटिंग हुई थी।बाउजूद अवैध खनन बतौर रूप से जारी है।आज की घटना से पुष्टि हो गई कि अवैध खनन धनबाद जिले में जारी है।जिला प्रशासन और बीसीसीएल की प्रशासनिक तंत्र फैल हो गई हैं।

आज 25 नवंबर की अवैध खनन की घटना से महिला की मौत के बाद प्रदर्शन हुई और कंपनी के प्रबंधक ने परिजनों को 2 लाख नगद व 2 नियोजन देने के बाद प्रदर्शन समाप्त हुई।धनबाद में अवैध खनन का गवाह 2 लाख मुवाबजा और नियोजन बना है।

राज्य में बैठे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ऐसे प्रशासनिक तंत्र का सुध लेने की अति आवश्यकता पड़ गई है।क्योंकि हर महीने धनबाद जिले में अवैध खनन के दौरन मौते होती रहती है।आखिर कब अवैध खनन धनबाद में रुकेंगी।

हादसा : अवैध खनन के दौरान चाल धंसने से महिला की हुई मौत,शव लेकर भागते दिखे परिजन…

"लगातार धनबाद के ख़बरों के लिए हमारे Youtube चैनल को सब्सक्राइब करे"