• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Trikut Ropeway Hadsa:हवा में झूलती जिंदगियों को बचाने के लिए 3 दिनों तक चला ऑपरेशन, 63 लोगों में 60 की बच्ची जान 3 की हुई मौत

1 min read

NEWSTODAYJ_देवघर: त्रिकूट पर्वत रोपवे हादसे में फंसे लोगों को निकालने के लिए तीन दिनों तक ऑपरेशन चलाया गया. इस दौरान 60 लोग सुरक्षित निकाले गए, जबकि तीन लोगों की जान नहीं बचाई जा सकी. सेना ने दो दिनों में 34 लोगों को रेस्क्यू किया, इस दौरान दो लोगों की मौत हुई, जिसमें एक महिला और एक पुरुष शामिल है.

 

 

11 अप्रैल को सुबह से एनडीआरएफ की टीम ने 11 जिंदगियां बचाईं, जिसमें एक छोटी बच्ची भी शामिल थी. इससे पहले हादसे के दिन 10 अप्रैल को रोपवे का मेंटिनेंस करने वाले पन्ना लाल ने स्थानीय ग्रामीणों की मदद से 15 लोगों को बचाया था, जबकि एक व्यक्ति की मौत हो गई थी.

 

 

दोपहर एक बजे के बाद सभी ट्रॉलियों की जांच की गई कि कहीं कोई बचा तो नहीं है. जांच के बाद डीसी मंजूनाथ भजंत्री ने ट्विट कर रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म होने की आधिकारिक जानकारी दी.

 

 

जब खतरे में पड़ा चौपर : मंगलवार सुबह को सेना का ऑपरेशन शुरू हुआ जो दोपहर एक बजे तक चला. इस दौरान सेना के जवानों ने मुश्किल परिस्थितियों में 13 लोगों की जान बताई जबकि एक महिला की मौत हो गई. रेस्क्यू ऑपरेशन जब फाइनल स्टेज पर था उसी वक्त एक दुखद घटना घटी, देवघर की रहने वाली एक साठ साल की महिला को एयरलिफ्ट किया जा रहा था. उसी वक्त रोपवे में रस्सी फंस गई, जिसकी वजह से चौपर खतरे में आ गया.

 

 

पायलट ने जर्क देकर रस्सी को सीधा करने की कोशिश की, लेकिन ऐसा हो नहीं पाया और इसी दौरान रस्सी टूट गई और महिला खाई में जा गिरी. आपको बता दें कि उस महिला की बेटी और दामाद दो दिन से यहीं पर जमे हुए थे. हादसे के बाद अर्चना नाम की महिला की बेटी रोते हुए यहां की व्यवस्था को कोसती रही.

 

 

सोमवार को 11 घंटे चला ऑपरेशन: सोमवार को सुबह से एनडीआरएफ की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गई. सेना के जवानों के पहुंचने से पहले एनडीआरएफ की टीम ने फंसे हुए 11 लोगों को सफलतापूर्वक निकाला. उसके बाद शाम तक चले ऑपरेशन में सेना के जवानों ने 21 लोगों को रोपवे से निकाला. वहीं इस दौरान ट्रॉली से जब व्यक्ति को निकालकर सेना के हेलीकॉफ्टर पर लाया जा रहा था उस वक्त उसका सेफ्टी बेल्ट खुल गया और वह नीचे गिर गया. जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

 

 

 

हादसा कब और कैसे हुआ: 10 अप्रैल को रामनवमी के दिन बड़ी संख्या में लोग रोपवे के सहारे त्रिकूट पर्वत का भ्रमण करने पहुंचे थे. इसी बीच शाम के वक्त त्रिकूट पर्वत के टॉप प्लेटफार्म पर रोपवे का एक्सेल टूट गया. इसकी वजह से रोपवे ढीला पड़ गया और सभी 24 ट्रॉली का मूवमेंट रूक गया.

 

 

 

रोपवे के ढीला पड़ने की वजह से दो ट्रॉलियां या तो आपस में या चट्टान से टकरा गईं. रोपवे का मेंटिनेंस करने वाले पन्ना लाल ने स्थानीय ग्रामीणों की मदद से 15 लोगों को बचाया, जबकि एक व्यक्ति की उनके सामने ही मौत हो गई.

 

 

क्या कहते हैं मंत्री और अधिकारी: देवघर के डीसी मंजूनाथ भजंत्री से जब पूछा गया कि दामोदर रोपवे इंफ्रा लिमिटेड के साथ किस टर्म एंड कंडीशन पर करार हुआ है, तो उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है. दूसरी तरफ पर्यटन मंत्री हफीजुल हसन ने बताया कि साल 2007 में दामोदर रोपवे इंफ्रा लिमिटेड ने ही रोपवे सिस्टम को स्थापित किया था, दो साल तक रोपवे का संचालन झारखंड टूरिज्म डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन ने किया, लेकिन अच्छे से मेंटिनेंस नहीं होने के कारण पर्यटन विभाग ने रोपवे के संचालन की जिम्मेदारी दामोदर रोपवे इंफ्रा लिमिटेड को दे दी थी.

 

 

जब उनसे पूछा गया कि क्या समझौते की अवधि खत्म हो गई थी तो इसके जवाब में उन्होंने कहा कि समय समय पर एग्रीमेंट का रिन्युअल होता रहता है. किसी तरह का एग्रीमेंट लैप्स नहीं हुआ है.

 

 

आपको बता दें कि 2020-2021 के बीच कोरोना की वजह से रोपवे का संचालन नहीं हो रहा था. यह पूछे जाने पर कि इतना बड़ा हादसा होने पर अब तक प्राथमिकी दर्ज क्यों नहीं हुई तो इसके जवाब में मंत्री और डीसी ने कहा कि सरकार की पहली प्राथमिकता लोगों को सुरक्षित बचाने की थी. इस दिशा में कवायद की जाएगी.

 

यह भी पढ़े..Jharkhand news:3 दिनों से चल रहा ऐतिहासिक रामनवमी उत्सव संपन्न,लाखों की संख्या में रामभक्त हुए शामिल

 

कब स्थापित हुआ था रोपवे सिस्टम: त्रिकूट पर्वत पर रोपवे सिस्टम की स्थापना साल 2009 में हुई थी. यह झारखंड का इकलौता और सबसे अनोखा रोपवे सिस्टम है. जमीन से पहाड़ी पर जाने के लिए 760 मीटर का सफर रोपवे के जरिये महज 5 से 10 मिनट में पूरा किया जाता है. कुल 24 ट्रालियां हैं. एक ट्रॉली में ज्यादा से ज्यादा 4 लोग बैठ सकते हैं. एक सीट के लिए 150 रुपये देने पड़ते हैं और एक केबिन बुक करने पर 500 रुपये लगता है.

 

 

 

इसकी देखरेख दामोदर रोपवे एंड इंफ्रा लिमिटेड, कोलकाता की कंपनी करती है. यही कंपनी फिलहाल वैष्णो देवी, हीराकुंड और चित्रकूट में रोपवे का संचालन कर रही है. कंपनी के जनरल मैनेजर कॉमर्शियल महेश मेहता ने बताया कि कंपनी भी अपने स्तर से पूरे मामले की जांच कर रही है.

 

जानें त्रिकूट पर्वत के बारे में: झारखंड के देवघर जिला को दो वजहों से जाना जाता है. एक है रावणेश्वर ज्योतिर्लिंग और दूसरा त्रिकूट पर्वत पर बना रोपवे सिस्टम. इस पर्वत से जुड़ी कई धार्मिक मान्यताएं हैं. कहा जाता है कि रामायण काल में रावण भी इस जगह पर रूका करते थे.

 

यह भी पढ़े….Trikut Ropeway Hadsa:त्रिकूट रोपवे पर 48 घंटे तक 42 लोगों की जिंदगी झूलती रही,पूरे दिन चला रेस्क्यू ऑपरेशन

 

इसी पर्वत पर बैठकर रावण रावणेश्वर ज्योतिर्लिंग को आरती दिखाया करता था. इस पर्वत पर शंकर भगवान का मंदिर भी है. जहां नियमित रूप से पूजा भी की जाती है. इस रोपवे सिस्टम की वजह से बड़ी संख्या में लोगों की रोजी-रोटी चल रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.