• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Tiger attack : महिला का बाघ ने किया शिकार , खा गया पेट और पैर, ग्रामीणों में दहशत…

1 min read

Tiger attack : महिला का बाघ ने किया शिकार , खा गया पेट और पैर, ग्रामीणों में दहशत…

NEWSTODAYJ : सिहोर जिले के डूंगरिया गांव में एक बाघ ने खेत में सो रही गेदाबाई (55) नामक एक महिला पर हमला कर दिया।जिससे उनकी मौत हो गई।इस घटना की सूचना लगते ही ग्रामीणों में हड़कंप मच गया।आनन-फानन में गांव वालों ने पुलिस और वन विभाग को सूचना दी।जिसके बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस और वन विभाग की टीम ने बाघ को भगाया।इसके बाद महिला के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

यह भी पढ़े..Fake disclosure : कागजों पर हो रही कोरोना टेस्टिंग, न नाम सही न फोन नंबर, बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा…

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जिस वक्त वन विभाग और पुलिस की टीम घटना स्थल पर पहुंची, उस वक्त बाघ महिला का पेट और पैर खा चुका था।इस दौरान वन विभाग और पुलिस की टीम ने उसे भगाने की कोशिश की तो वह भागने की बजाय दहाड़ने लगा। जिसके बाद पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल किया।तब जाकर वह वहां से हटा।पीड़ित परिजनों को 10 हजार रुपए सहायता राशि दी गई है।

यह भी पढ़े…Tremors of earthquake : भूकंप के झटके से सहमे लोग, रिक्टर स्केल पर 4.3 की तीव्रता…

अभी तक बाघ को पकड़ा नहीं गया है।बताया जाता है कि वह पास स्थित जंगल की ओर भाग गया है।वन विभाग द्वारा उसे पकड़ने के लिए एक पिजड़ा लगाया गया है।साथ ही वन विभाग की एक टीम को उसकी निगरानी के लिए लगाया गया है।वहीं, इस घटना से ग्रामीणों में डर का माहौल है।डर के मारे ग्रामीण अपने-अपने घरों में दुपके हैं।बहुत जरूरी काम होने पर ही वे घरों से बाहर निकल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.