• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Shameless innocent dies : रक्त वीर शर्मसार , सिस्टम को किसी की कोई परवाह नहीं , सिस्टम के मार से चार साल मासूम बच्चे ने तोड़ा दम…

1 min read

Shameless innocent dies : रक्त वीर शर्मसार , सिस्टम को किसी की कोई परवाह नहीं , सिस्टम के मार से चार साल मासूम बच्चे ने तोड़ा दम…

NEWSTODAYJ : देवघर के समाजसेवी शर्मसार हैं देवघर के रक्त वीर शर्मसार हैं और सिस्टम को किसी की कोई परवाह नहीं घटना ऐसी है कि किसी को भी झकझोर दे जसीडीह थाना क्षेत्र के बंका गांव की निवासी गुड़िया देवी अपने 4 साल के बेटे विवेक कुमार को लेकर देवघर ब्लॉड बैंकआई इस उम्मीद में कि इसके बेटे की जान बच जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ गुड़िया अपने 4 साल के थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चे को रक्त दिलाने के लिए सदर अस्पताल पहुंचे.

यह भी पढ़े…A surprise check : कृषि पदाधिकारी ने निबंधित खाद दुकानों का किया निरीक्षण…

जहां डॉक्टर ने इन्हें ब्लड बैंक भेज दिया लेकिन ब्लड बैंक में ब्लड कम रहने के कारण इसे सिविल सर्जन से लिखवा कर लाने के लिए कहा गया महिला फिर सिविल सर्जन कार्यालय गई जहां पर काफी देर भटकने के बाद आखिरकार इसके पर्ची पर लिखकर इसे फिर से ब्लड बैंक भेजा गया लेकिन इसके पहले कि इसे ब्लड मुहैया हो पाता 4 वर्षीय विवेक ने दम तोड़ दिया था यह घटना सिस्टम पर सवाल खड़ा करती है।

यह भी पढ़े…Personnel strike : नगर पालिका स्टाफों की दो दिवसीय सांकेतिक हड़ताल शुरू, लगभग 200 कर्मी हड़ताल पर,साफ सफाई हुई बदहाल…

कि सरकार के नियमों के मुताबिक थैलेसीमिया के पीड़ित बच्चों को निशुल्क ब्लड उपलब्ध कराया जाए लेकिन कागजी प्रक्रिया इतनी लंबी कर दी गई कि आज विवेक ने कागज के सामने दम तोड़ दिया विवेक के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है लेकिन यह आशु कई सवाल खड़े करते हैं कि आखिरकार रक्त वीर कहां सोए हैं और रक्तदान महादान का नारा लगाने वाले सूरमा कहां सोए हैं वह संस्थाएं कहां सोई है जो रक्तदान करने का दावा करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.