• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Raksha Bandhan : 3 अगस्त को मनाई जाएगी सैकड़ों वर्ष पुरानी परंपरा रक्षाबंधन…

1 min read

Raksha Bandhan : 3 अगस्त को मनाई जाएगी सैकड़ों वर्ष पुरानी परंपरा रक्षाबंधन…

  • रक्षाबंधन के इतिहास में मुस्लिम से लेकर वो लोग भी शामिल हैं जो सगे भाई-बहन नहीं थे।
  • हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाए जाने वाले इस त्योहार में बहनें अपने भाई को कलाई में राखीं बांधती हैं।

NEWSTODAYJ : (ब्यूरो रिपोर्ट) भारत में रक्षाबंधन का इतिहास सैकड़ों वर्ष पुराना है।राखी से जुड़ी एक नहीं बल्कि कई कहानियां हैं और ये सभी अपने आप में काफी विविध हैं।रक्षाबंधन के इतिहास में मुस्लिम से लेकर वो लोग भी शामिल हैं जो सगे भाई-बहन नहीं थे।भाई-बहन के प्यार के प्रतीक के रूप में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार रक्षाबंधन इस साल 3 अगस्त को पड़ रहा है।

यह भी पढ़े…Coronavirus : सात CRPF जवान समेत 17 और कोरोना संक्रमित मिलने से लोगो मे हड़कंप…

हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाए जाने वाले इस त्योहार में बहनें अपने भाई को कलाई में राखीं बांधती हैं और बदले में भाई उनकी उम्र रक्षा करने का वचन देता है।वैसे भारत में रक्षाबंधन का इतिहास सैकड़ों वर्ष पुराना है।राखी से जुड़ी एक नहीं बल्कि कई कहानियां हैं और ये सभी अपने आप में काफी विविध हैं।रक्षाबंधन के इतिहास में मुस्लिम से लेकर वो लोग भी शामिल हैं जो सगे भाई-बहन नहीं थे।

यह भी पढ़े…CRIME : सुशांत राजपूत केस में एक नया मोड़ अब नही सौपी जएगी CBI को केस , महाराष्ट्र सरकार ने लिया निर्णय…

कर्मावती और हुमायूं की कहानी

राजपूत जब लड़ाई पर जाते थे तब महिलाएं उनको माथे पर कुमकुम तिलक लगाने के साथ साथ हाथ में रेशमी धागा भी बांधती थी, इस विश्वास के साथ कि यह धागा उन्हें विजयश्री के साथ वापस ले आयेगा।राखी के साथ एक और प्रसिद्ध कहानी जुड़ी हुई है।

यह भी पढ़े…Freedom from triple talaq : मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में एक अगस्त को इतिहास में दर्ज हो गया ,अगस्त माह देश के लिए महत्वपूर्ण…

कहते हैं, मेवाड़ की रानी कर्मावती को बहादुरशाह द्वारा मेवाड़ पर हमला करने की पूर्व सूचना मिली।रानी लड़ने में असमर्थ थी अत: उसने मुगल बादशाह हुमायूं को राखी भेज कर रक्षा की याचना की।हुमायूं ने मुसलमान होते हुए भी राखी की लाज रखी और मेवाड़ पहुंच कर बहादुरशाह के विरुद्ध मेवाड़ की ओर से लड़ते हुए कर्मावती व उसके राज्य की रक्षा की।

यह भी पढ़े…Inaugaration : मॉरीशस के नए सुप्रीम कोर्ट भवन का पीएम मोदी और प्रवींद्र जगन्नाथ आज करेंगे उद्घाटन…

श्रीकृष्ण और द्रोपदी की कहानी

जब श्रीकृष्ण ने सुदर्शन चक्र से शिशुपाल का वध किया था उनकी अंगुली में चो आ गई थी।इसके बाद द्रोपदी साड़ी फाड़कर कृष्ण की अंगुली पर पट्टी बांध दी थी।उस दिन भी श्रावण मास की पूर्णिमा थी।मान्यता है कि इसी के बाद से इस दिन को रक्षाबंधन के रूप में मनाया जाता है।

यह भी पढ़े…Smuggling : पण्डरपाला रहमतगंज में पुलिस की दबिश,सात गोवंश किया गया मुक्त…

सिकंदर की पत्नी और पुरू की कहानी

सिकंदर को युद्ध के दौरान जीवनदान भी इस राखी के चलते ही मिला था।दरअसल सिकंदर की पत्नी ने पुरुवास उर्फ राजा पोरस को राखी बांधकर भाई बना लिया था और वचन लिया कि वो उनके पति की रक्षा करेंगे।इसके बाद राजा पोरस ने युद्ध के दौरान सिकंदर को जीवन दान दे दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.