• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Navratri Puja :तीसरे दिन दुर्गा मां के चंद्रघंटा रूप का पूजन,इस विधि से करें पूजन होगी मनोकामना पूरी

1 min read

NEWSTODAYJ_प्रयागराज: आज नवरात्रि का तीसरा दिन है. नवरात्रि के तीसरे दिन दुर्गा मां के चंद्रघंटा रूप की पूजा की जाती है. नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि के दौरान मां के नौ रूपों की पूजा की जाती है. मां का तीसरा रूप राक्षसों का वध करने के लिए जाना जाता है. इनके शरीर का रंग सोने की तरह चमकीला है.

 

इस देवी के माथे पर घंटे के आकार का आधा चंद्र विराजमान है, इसीलिए इस देवी को चंद्रघंटा कहा गया है. देवी का यह स्‍वरूप कल्‍याणकारी है. मां की 10 भुजाएं हैं. वह खड़ग और खपरधारी हैं. मां चंद्रघंटा के गले में सफेद फूलों की माला है. आइए जानते हैं नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि और मंत्र के बारे में…

 

पूजा विधि: सुबह जल्दी उठकर स्नान कर साफ-सुथरे कपड़े पहनकर माता का ध्यान करें. उनके स्वरूप का ध्यान करें. साथ ही साज-श्रृंगार करें. दुर्वा, अक्षत, गुलाब, लौंग, कपूर, इत्र, हल्दी आदि से मां की पूजा-अर्चना करें. चूंकि माता को लाल फूल अति प्रिय है तो आप लाल गुड़हल का फूल चढ़ा सकते हैं या आज के दिन माता को सफेद गुड़हल भी चढ़ा सकते हैं.

 

 

मां चंद्रघंटा को इस चीज का लगाएं भोग: मां चंद्रघंटा को दूध या दूध से बनी मिठाई का भोग लगाना चाहिए. प्रसाद चढ़ाने के बाद इसे स्वयं भी ग्रहण करें और सभी में वितरित भी करें. वहीं, देवी मां को मखाने की खीर का भी भोग लगा सकते है.

 

यह भी पढ़े….Festival:नवरात्रि की महानवमी की संपूर्ण पूजा की विधि और व्रत के बारे में जानिए ,पढ़े पूरी रिपोर्ट

मां चंद्रघंटा की कथा: मान्यताओं के अनुसार, बहुत समय पहले जब असुरों का आतंक बढ़ गया था, तब उन्हें सबक सिखाने के लिए मां दुर्गा ने अपने तीसरे स्वरूप में अवतार लिया था. दैत्यों का राजा महिषासुर राजा इंद्र का सिंहासन हड़पना चाहता था, जिसके लिए दैत्यों की सेना और देवताओं के बीच में युद्ध छिड़ गया था.

 

वह स्वर्ग लोक पर अपना राज कायम करना चाहता था, जिसकी वजह से सभी देवता परेशान थे. सभी देवता अपनी परेशानी लेकर त्रिदेवों के पास गए.मां चंद्रघंटा का मंत्र

 

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।

प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥

 

चंद्रघंटा की कृपा से साधक को समस्त पापों से मुक्ति मिल जाती है और जीवन में आ रही बाधाएं भी दूर हो जाती हैं. इनकी आराधना फलदायी है. मां भक्तों के कष्ट का निवारण शीघ्र ही कर देती हैं. इनका उपासक सिंह की तरह पराक्रमी और निर्भय हो जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें