• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Jharkhand News : बीते वर्ष बारिश में घर गिर जाने के कारण झोपड़ी में रहने को विवश है चेत सिंह…

1 min read

Jharkhand News : बीते वर्ष बारिश में घर गिर जाने के कारण झोपड़ी में रहने को विवश है चेत सिंह…

NEWSTODAYJ : लातेहार जिले के बरवाडीह प्रखंड अंतर्गत आने वाले छिपादोहर पंचायत के हरनामाड़ के चेत सिंह पिता स्वर्गीय रामवीर सिंह झोपड़ी में रहने को विवश है।कोई पुत्र नही है एक बेटी है जो अपने ससुराल में रहती है।चेत सिंह वयोवृद्घ होने के कारण छोटी-मोटी कर अपना जीवनयापन करते है।बताते चलें कि एक वर्ष पूर्व उनका मिट्टी का मकान बारिश के वजह से जमींदोज हो गया था जिसके कारण वह बेघर हो गए थे। चेत सिंह ने बताया कि मैं अत्यंत गरीब हूं किसी तरह मजदूरी करके अपना गुजर-बसर करता हूं पिछले साल बारिश के कारण मेरा घर दोस्त हो गया इतनी आमदनी भी नहीं है कि मैं घर का दोबारा मरम्मत करा सकूं।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : पुलिस ने की छापेमारी , 6 साइकिल एवं कोयला किया जब्त…

इस लिए मुखिया को जानकारी देकर घर मरम्मत या पीएम आवास का के लिए आग्रह किया था ताकि मुझ गरीब के सर के ऊपर भी छत सके। वर्तमान में मैं टूटी फूटी झोपड़ी बनाकर अपना जीवन गुजर बसर कर रहा हूं मेरा कोई नहीं है।मैं पूरी तरह से बे सहारा हूं गरीब एवं वृद्ध हूँ। स्थानीय मुखिया को जानकारी देने के बाद भी इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया है ताकि मुझे पीएम आवास मिल सके। मैं लातेहार जिला उपायुक्त तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी बरवाडीह से आग्रह तथा मांग करता हूं कि मुझ गरीब को एक आदत घर पीएम आवास योजना के तहत दिया जाए ताकि मैं अपना जीवन एक छत के नीचे गुजार सकूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.