NEWSTODAYJ_RANCHI : सरेंडर कर जेल खटने के बाद बाहर निकले रामू पदो मुंडा का दुखड़ा यह है कि सरकार ने किये वादे के अनुसार जो जमीन उसे दिया, उसपर दूसरे ने कब्‍जा कर लिया। वहीं घर भी बना लिया, अब हम क्‍या करें। वहीं बाकी लाभ जो भी मिलने वाला था, वह भी नहीं मिला। पूर्व एरिया कमांडर रामू ने 31 मार्च 2010 को सरेंडर किया था। वहीं सरेंडर करने के बाद जेल से बाहर निकलते ही माओवादी शंकर पुरान की की हत्‍या कर दी गई। वह कुंदन पाहन के दस्‍ते में था। वहीं कुंदन पाहन भी सरेंडर करने के बाद से जेल में बंद है।

यह भी पढ़े…Jharkhand news:चोरी की स्कूटी के साथ दो नाबालिगों को पुलिस ने पकड़ा,नाबालिगों ने किया फिर खुलासा

मारे गये शंकर पुरान की बेवा शांति सोरेन को भी यह दुख है कि सरेंडर के समय जो कुछ भी लाभ देने का वादा किया गया था वह पूरा नहीं किया गया। वहीं रांची के रूरल एसपी मो नौशाद आलम ने कहा कि यह सच है कि सरेंडर करने वाले माओवादी- उग्रवादी को कहीं लाभ मिला तो कहीं नहीं। कई तरह की शिकायत आने के बाद इस मसले पर शासन-प्रशासन गंभीर है। बहुत जल्‍द इसे शॉटआउट कर उन्‍हें मिलने वाली सारी लाभ दे दी जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *