INSPIRATIONAL NEWS:महिला ने साबित किया मेहनत से हर मुश्किल होती है आसान ,जानिए आखिर कैसे एक सफाई कर्मचारी बनी RAS अधिकारी…

INSPIRATIONAL NEWS:महिला ने साबित किया मेहनत से हर मुश्किल होती है आसान ,जानिए आखिर कैसे एक सफाई कर्मचारी बनी RAS अधिकारी…

 

NEWSTODAYJ_Inspirational News:अपने तो सुना ही होगा की हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती, ये बात बिल्कुल सच है | जोधपुर की आशा कंडारा पर बिल्कुल सही साबित होती है | राजस्थान प्रशासनिक सेवा परीक्षा में सफाई कर्मी आशा कंडारा ने कमाल कर दिया है |

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

 

आशा आज उन सभी महिलाओं के लिए मिसाल बन गई है | वह इग्ज़ैम पास कर अब एक आरएएस अफसर बन गई हैं | आशा के पिता राजेंद्र कंडारा लेखा सेवा से रिटायर हो चुके हैं | आशा आरएएस अफसर बनने से पहले झाडू लगाने का काम करती थी |

यह भी पढ़े…Jharkhand news:बोकारो में जल्द होगी हवाई सेवाएं शुरू,दिल्ली कोलकाता एवम पटना के लिए शुरू होगी फ्लाइट

शादी के कुछ साल बाद हुआ तलाक

आशा की शादी 1997 में हुई थी, उनका एक बेटा ऋषभ और एक बेटी पल्लवी है | शादी के पांच साल बाद घरेलू झगड़ों के चलते आशा का तलाक हो गया था | इसके बाद भी आशा ने हिम्मत नहीं हारी और अपने दोनों बच्चों की परवरिश के साथ-साथ पढ़ाई भी जारी रखी |

सफाई कर्मचारी भी रह चुकी है आशा

 

आशा ने साल 2016 में स्नातक की डिग्री पूरी की थी | इसके बाद आशा ने 2018 में आरएएस की परीक्षा और फिर सफाई कर्मचारी भर्ती परीक्षा का एग्जाम दिया | उस समय आरएएस का रिजल्ट नहीं आया था | आरएएस एग्जाम के 12 दिन बाद ही आशा को सफाई कर्मचारी पद पर नियुक्ति मिल गई थी |

दो साल तक लगाई झाड़ू

जोधपुर के उत्तम नगर में बतौर सफाई कर्मी आशा ने दो साल तक सड़कों पर झाड़ू लगाई | आशा शहर के पावटा की मुख्य सड़क पर सफाई के लिए बनाई गई कर्मचारियों की टीम में शामिल थी और पावटा की सड़कों पर झाडू लगाती थी |

 

पति से अनबन के बाद संभाली दो बच्चों की जिम्मेदारी

पति से विवाद के बाद आशा ने दोनों बच्चों की कस्टडी अपने पास रख ली थी | अकेले अपनी पढ़ाई के साथ-साथ उनकी जिम्मेदारी निभाना थोड़ा मुश्किल जरूर था लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारीं और संघर्ष जारी रखा | कुछ दिन बाद उनकी मेहनत रंग लाई और आरएएस परीक्षा पास कर सफलता का परचम लहरा दिया |

 

700 से अधिक रैंक पाकर बनी RAS अधिकारी

 

अब मंगलवार रात को राजस्थान लोक सेवा आयोग अजमेर ने आरएएस परीक्षा 2018 का रिजल्ट जारी किया है, जिसमें आशा को 700 से अधिक रैंक मिली है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here