Festival: पति की लंबी आयु के लिए सुहागिनों ने रखा करवा चौथ का व्रत,चांद को देखकर तोड़ा व्रत

0

NEWSTODAYJ_Jamshedpur : त्योहारों के इस मौसम में एक ऐसा पर्व जो सुहागिनों के लिए महत्वपूर्ण होता है ,करवा चौथ जिसे महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करती है। करवा चौथ पूजा के लिए सुबह से ही सुहागिन महिलाओं में रविवार को उत्साह देखा गया. पति की लंबी आयु के लिए श्रद्धा भाव से करवा चौथ का व्रत किया. इसके लिए व्रतियों ने पूरे दिन उपवास कर करवा चौथ की कथा सुनी. इसके बाद व्रतियों ने चांद को देखकर व्रत तोड़ा. व्रतियों ने चांद निकलने पर उसकी पूजा और आरती की. इसके बाद अर्घ्य दिया. चलनी में चांद को देखकर अपने पति के चेहरे को देखा. इसके बाद व्रतियों ने पति का पैर छूकर आशीर्वाद लिया. पति ने भी पत्नी को पानी पिलाकर व्रत संपन्न कराया. इसके बाद व्रतियों ने अपने घरों पर बड़े-बुजुर्गों से अपने पति की लंबी आयु का आशीर्वाद लिया. शहर में मुख्य रूप से मारवाड़ी, पंजाबी समेत अन्य समाज की सुहागिन महिलाओं ने भी व्रत किया. विशेष रूप से नवविवाहिताओं ने व्रत किया.

यह भी पढ़े….Festival_Dussehra:67 वर्ष पूर्व शुरू हुआ रावण दहन की प्रथा आज होता है हर वर्ष विशाल आयोजन,जानिये कैसे शुरू हुआ रावण दहन का प्रचलन

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

मंदिरों में थी तैयारी

शहर के विभिन्न मंदिरों में सुबह से ही तैयारी चल रही थी. शाम होते ही व्रतियों का मंदिर आना शुरू हो गया था. गोलमुरी रिफ्यूजी कॉलोनी स्थित श्रीकृष्ण मंदिर में करवा चौथ की हुई. पूजा रिफ्यूजी कॉलोनी स्थित श्री कृष्ण मंदिर में करवा चौथ पूजा में व्रतियों की आस्था देखती ही बन रही थी. सुहागिन महिलाएं सोलह श्रृंगार कर और हाथों में खूबसूरत मेहंदी तथा रंग बिरेंगे परिधान में काफी आकर्षक लग रही थी.

हाथों में पूजा की थाल जिसमें आटे के बने दिए में जल रहे ज्योत की प्रकाश पूरा मंदिर को प्रकाशित कर रहा था. काफी संख्या में सुहागिन महिलाओं ने एक साथ सामुहिक रूप में भगवान शंकर, माता पार्वती व भगवान गणेश की पूजा की. पूजा के दौरान पंडित संतोष त्रिपाठी ने करवा चौथ की पारंपरिक कथा वीरा और कुड़ी की कथा का रसपान कराया. उन्होंने व्रतियों को कथा के महत्व तथा उनके जीवन में पति के सदा सम्मान करने के बारे में बताया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here