• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad News : शांति पूर्वक शिक्षा का अधिकार अधिनियम का विरोध , काला बिला लगाकर उपायुक्त कार्यालय तक पैदल मार्च…

1 min read

Dhanbad News : शांति पूर्वक शिक्षा का अधिकार अधिनियम का विरोध , काला बिला लगाकर उपायुक्त कार्यालय तक पैदल मार्च…

NEWSTODAYJ धनबाद : झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के धनबाद जिला इकाई द्वारा सोमवार को उपायुक्त सह अध्यछ जिला प्रारंभिक शिक्षा समिति की बैठक का काला बिला लगाकर और रणधीर वर्मा चौक से उपायुक्त कार्यालय तक पैदल मार्च कर बिरोध जताया गया और उपायुक्त को एक ज्ञापन सौंपा गया जिसमें आरटीई के बिंदु पर विचार कर आज की बैठक को स्थगित करते हुए प्रारंभिक समिति की कमेटियां को पुनः भंग कर पुनः स्थगित करने की मांग की गई।

यह भी पढ़े…DHANBAD NEWS:धनबाद पहुँचे झारखण्ड के पुलिस महानिर्देशक एमबी राव:बोले झारखंड की विधि व्यवस्था ठीक है…

इस दौरान कहा गया कि आज एसोसिएशन इस बैठक का शांति पूर्वक शिक्षा का अधिकार अधिनियम का विरोध कर रहा है क्योंकि यह बैठक संबंध प्राप्त विद्यालयों को फायदा पहुंचाने और धनबाद जिले के लगभग 800 गैर मान्यता प्राप्त निजी विद्यालयों को बंद करने की साजिश रची जा रही है जो कि वर्तमान में अधिसूचना के अनुसार अनुपालन को लेकर माननीय उच्च न्यायालय झारखंड सरकार के समक्ष गैर सहायता प्राप्त निजी विद्यालय की एसोसिएशन द्वारा शिकायत वाद दर्ज कराया गया है।

यह भी पढ़े…Politics news:पार्षदों की टोली मिले मंत्री आलमगीर आलम से:कई समस्याओं से कराया अवगत…

इसलिए जब तक इस संबंध में माननीय उच्च न्यायालय का निर्णय नहीं आ जाता तब तक मान्यता प्राप्त के बिंदु पर विचार करना न्यायोचित नहीं होगा और यह उच्च न्यायालय का अवमानना समझा जाएगा।वही जिला सचिव इरफान खान ने कहा कि जिला शिक्षा अधीक्षक के द्वारा फिर भी यह बैठक दिखाकर आरटीई 2009 के तहत बड़े विद्यालयों को मान्यता दी जाती है तो एसोसिएशन कोर्ट की शरण में जाएगा और केस दर्ज करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें