• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad News : जज उत्तम आनंद की पुण्यतिथि आज कोर्ट आज ही सुनाएगी अपना फैसला

1 min read

NEWSTODAYJ :  न्यायाधीश उत्तम आनंद हत्याकांड की आज पहली बरसी है। आज ही के दिन धनबाद सीबीआइ की विशेष अदालत इस मामले में अपना फैसला भी सुनाएगी। अदालत के फैसले पर सबकी नजरें टिकी हैं। इससे पहले 26 जुलाई को दोनों पक्षों की सुनवाई पूरी करने के बाद सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत ने इस मुकदमे में फैसले के लिए न्यायाधीश की पुण्यतिथि का ही दिन चुना था।

 

विशेष अदालत में इस मामले का स्पीडी ट्रायल किया गया। 22 फरवरी 2022 को आरोप तय होने के बाद महज पांच महीने में अदालत ने 58 गवाहों का बयान दर्ज कर लिया।

 

सुनवाई के दौरान सीबीआइ के क्राइम ब्रांच के स्पेशल पीपी अमित जिंदल ने आरोप पत्र के कुल 169 गवाहों में से 58 गवाहों का बयान दर्ज कराया था। सीबीआइ ने दावा किया है कि आरोपित लखन वर्मा एवं राहुल वर्मा ने जानबूझकर जज साहब को टक्कर मारी, जिनसे उनकी मौत हुई। वहीं बचाव पक्ष ने इसे महज एक दुर्घटना बताया था।

 

यह भी पढ़े….Dhanbad News : हथियार के बल पर कर्मीयों को बंधक बनाकर अपराधियों ने लूटा लाखों रुपये का केबल

 

हालांकि अदालत के फैसले से आज साफ हो जाएगा कि न्यायाधीश की मौत हत्या थी या दुर्घटना।जज उत्तम आनंद की मौत 28 जुलाई 2021 की सुबह हुई थी। वह घर से सुबह की सैर पर निकले थे। धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर सुबह 5:08 मिनट पर एक ऑटो ने धक्का मार दिया था। अस्पताल ले जाने पर डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। घटना का सीसीटीवी फुटेज देखने से ऐसा प्रतीत हुआ कि यह हादसा नहीं है, बल्कि जज को जानबूझकर धक्का मारा गया। मामले में सुप्रीम कोर्ट और झारखंड हाई कोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया था। पहले झारखंड सरकार द्वारा गठित एसआइटी ने मामले की जांच शुरू की थी,

 

लेकिन 4 अगस्त 2021 को इसे सीबीआई को सौंप दिया गया था।

बीते साल 20 अक्टूबर को सीबीआइ ने दोनों आरोपियों के विरुद्ध हत्या का आरोप लगाते हुए चार्जशीट दायर कर दी थी। वहीं सीबीआइ ने हत्या के अलावा ऑटो चोरी एवं मोबाइल चोरी की दो अलग एफआइआर भी दर्ज की थी। कोर्ट की सुनवाई के दौरान के दोनों आरोपियों की ब्रेन मैपिंग तक कराई जा चुकी है। अब बस फैसले का इंतजार किया जा रहा है। हालांकि वह इंतजार भी बस थोड़ी ही देर में खत्‍म होने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.