• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad news:गुरु तेग बहादुर के 400वीं प्रकाश उत्सव का आयोजन,अरदास एवं शबद कीर्तन और गुरुवाणी का आयोजन

1 min read

 

NEWSTODAYJ_Dhanbad:सिख पंथ के नौवें गुरु तेज बहादुर सिंह की 400 वीं प्रकाश उत्सव के मौके पर झारखंड मैदान धनबाद में अरदास एवं शबद कीर्तन और गुरुवाणी का आयोजन किया गया जहां सेंट्रल गुरुद्वारा कमेटी के साथ-साथ कई अन्य गुरुद्वारे से आए सिख संगत ने अपने सबद कीर्तन से श्रद्धालुओं को निढ़ाल किया सामूहिक अरदास का भी आयोजन किया गया।

 

बता दें कि अमृतसर में जन्मे गुरु तेग बहादुर गुरु हरगोविन्द जी के पांचवें पुत्र थे। 8वें गुरु हरिकृष्ण राय जी के निधन के बाद इन्हें 9वां गुरु बनाया गया था। इन्होंने आनन्दपुर साहिब का निर्माण कराया और ये वहीं रहने लगे थे।

यह भी पढ़े…Dhanbad news:सास के मरते ही भैसुर बना हैवान,बीमार पति और बच्चे को लेकर दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर

गुरु तेग बहादुर बचपन से ही बहादुर, निर्भीक स्वभाव के और आध्यात्मिक रुचि वाले थे। मात्र 14 वर्ष की आयु में अपने पिता के साथ मुगलों के हमले के खिलाफ हुए युद्ध में उन्होंने अपनी वीरता का परिचय दिया। इस वीरता से प्रभावित होकर उनके पिता ने उनका नाम तेग बहादुर यानी तलवार के धनी रख दिया।

उन्होंने मुगल शासक औरंगजेब की तमाम कोशिशों के बावजूद इस्लाम धारण नहीं किया और तमाम जुल्मों का पूरी दृढ़ता से सामना किया। औरंगजेब ने उन्हें कबूल करने को कहा तो गुरु साहब ने कहा शीश कटा सकते हैं केश नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.