• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Corona Vaccination:12-18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन अगले महीने शुरू,तीसरी लहर के आशंका के बीच अच्छी खबर

1 min read

NEWSTODAYJ_कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच देश में 12-18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन अगले महीने शुरू हो जाएगा. बच्चों के लिए कोरोना टीके जायकोव-डी को मंजूरी मिलना टीकाकरण की दिशा में किसी बड़े कदम से कम नहीं है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने सूत्रों के हवाले से ये रिपोर्ट दी है. इसके मुताबिक कैडिला हेल्थकेयर अगले महीने बच्चों की वैक्सीन जायकोव-डी लॉन्च कर देगी. इसके इमरजेंसी यूज के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने पिछले महीने मंजूरी दे दी थी. रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक जायडस कैडिला अक्टूबर से हर महीने 1 करोड़ डोज बनाना शुरू कर देगी.

 

खास बात यह है कि बच्चों के लिए बने जिस टीके को आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली है, वह स्वदेशी है. तीन खुराक वाले इस टीके की खूबी यह बताई जा रही है कि यह दुनिया का पहला टीका है जो डीएनए आधारित है. जबकि अभी तक दुनियाभर में जितने भी टीके आए हैं, वे आरएनए पर आधारित हैं. यह टीका सूई के जरिए नहीं दिया जाएगा. बहुत से लोगों के मन में सूई को लेकर एक प्रकार का भय बना रहता है और इस डर के मारे वे टीकाकरण से बचते देखे गए हैं. खासतौर से बच्चों के साथ यह समस्या ज्यादा ही है. जायकोव-डी टीका बांह पर चिपका दिया जाता है और तीन दिन में त्वचा के जरिए शरीर में पहुंच जाता है

यह भी पढ़े….Coronavirus: स्कूल खुलते के साथ ही 20 बच्चे हुए कोरोना पोजिटिव, मचा हड़कंप
कोवैक्सीन का भी थर्ड फेज का ट्रायल पूरा

दूसरी तरफ भारत बायोटेक भी बच्चों पर कोवैक्सीन का तीसरे फेज का ट्रायल पूरा कर चुकी है.अब तक 28 हजार से ज्यादा लोगों पर इसके तीसरे चरण की टेस्टिंग हो चुकी है. दावा किया जा रहा है कि यह टीका छियासठ फीसद कामयाब है. कंपनी ने कहा है कि वह अगले हफ्ते थर्ड फेज के डेटा DGCI को सौंप देगी. अभी थर्ड फेज के डेटा का एनालिसिस किया जा रहा है. वहीं सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भी 2 से 12 साल की उम्र के बच्चों पर कोवावैक्स का दूसरे-तीसरे फेज का ट्रायल कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.