• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Corona Infection : 4 हजार वकीलों का बनाया कंगाल , घर चलाने के लिए लगाई गुहार…

1 min read

Corona Infection : 4 हजार वकीलों का बनाया कंगाल , घर चलाने के लिए लगाई गुहार…

NEWSTODAYJ : रांची । कोरोना संक्रमण का असर समाज के सभी वर्गों पर पड़ा है. कारोबारी हो या नौकरीपेशा या फिर वकील सभी आर्थिक तंगी की चपेट में हैं। झारखंड की राजधानी रांची के करीब चार हजार वकील और कोर्ट के अन्य स्टाफ बेहद परेशान है।आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं।इनके सामने परिवार चलाने तक का संकट पैदा हो गया है।

यह भी पढ़े…Cyber ​​criminal arrested : 12 साइबर अपराधी गिरफ्तार, हथियार-मोबाइल जब्त…

दरअसल कोर्ट में फिजिकल सुनवाई बंद होने की वजह से 95 फीसदी अधिवक्ताओं की कमाई बंद हो गई है।रांची जिला बार एसोसिएशन के प्रशासनिक सचिव पवन खत्री ने बताया कि सामान्य दिनों में कोर्ट में गहमागहमी और केसों की सुनवाई पर वकील, मुंशी समेत दूसरे स्टाफ की रोजी-रोटी टिकी रहती है।

यह भी पढ़े…LIVE PM : मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक, मोदी ने हरियाणा के CM से कहा- आंकड़े नहीं, कोरोना के खिलाफ उठाए गए कदम बताइए…

लेकिन कोरोना काल में ऑनलाइन सुनवाई के चलते कोर्ट में सन्नाटा पसरा हुआ है।लिहाजा कोर्ट से जुड़े लोगों के आमदनी पर भी ताला लग गया है।अधिवक्ता अरविंद कुमार ने कहा कि मजदूरों के लिए लेबर वेज भी फिक्स है, जबकि वकीलों के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है।हालात यह है कि आमदनी प्रभावित होने से घरेलू कलह भी अब सामने आने लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.