Bollywood: कॉमेडियन सुनील ग्रोवर के बेटे को नहीं पसंद उनका लड़की बन कर लोगों को हंसाना…

0

Bollywood: कॉमेडियन सुनील ग्रोवर के बेटे को नहीं पसंद उनका लड़की बन कर लोगों को हंसाना…

 

NEWSTODAYJ_Bollywood:टीवी के सबसे पॉपुलर शो ‘कॉमेडी नाइट्स विद कपिल’ में ‘गुत्‍थी’ (Guthi)और ‘रिंकू भाभी (rinku bhabhi)’ का किरदार निभाकर लोगों के दिलों में खास जगह बनाने वाले एक्‍टर सुनील ग्रोवर (Sunil Grover)के इस किरदार को शायद ही कोई भूला पाएंगा। इनको आता ही नहीं…, जिंदगी बर्बाद हो गया” जैसे डायलॉग सुनकर लोग आज भी हंसने लगते हैं। लेकिन क्या आप सब ये जानते है कि इन्हीं करिदारों की वजह से एक बार सुनील ग्रोवर के बेटे की खूब हंसी उड़ाई गई थी। जिसके बाद उसने परेशान होकर अपने पापा को महिला किरदार करने से मना कर दिया था।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

यह भी पढ़े….Bollywood: शिल्पा शेट्टी को मिली कोर्ट से राहत, राइट टू प्राइवेसी को बताया कोर्ट ने सही

इस बारे में बात करते हुए सुनील ग्रोवर ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि, ‘मेरे 6 साल के बेटे को बिल्डिंग में कुछ लड़के मेरे किरदार को लेकर चिढ़ाते थे। वो कहते थे कि तेरे पापा तो लड़की बनते है। ऐसा कई दिनों तक हुआ तो एक दिन वो मेरे पास आया और उसने मेरे से कहा, पापा वो लड़की वाला रोल मत किया करो प्लीज।’

यह भी पढ़े…..Bollywood: कार्तिक आर्यन ने फिल्म फ्रेडी की शूटिंग की स्टार्ट, बाइक पर पहुंचे पहले दिन

सुनील ग्रोवर ने आगे बताया कि, बेटे कि ये बात सुनकर मुझे ये जानने की इच्छा हुई कि आखिर उसने ऐसा क्यों कहा? मैंने उससे पूछा और कहा क्यों बेटा क्या हुआ तो उसने मुझे कुछ नहीं कहा बस ये बोला कि लड़की वाला रोल मत किया करो ।इसके बाद उन्होंने उसके दोस्तों और बिल्डिंग में पता लगाया तो पता चला कि कुछ लड़कों ने उसका बहुत मजाक उड़ाया था इस बात को लेकर कि तुम्हारे पापा तो लड़की बनते हैं, जिससे वो काफी दुखी था।

 

उसके आगे सुनील ने बताया कि, ‘ये सब सुनने के बाद मैं अपने बेटे को एक दिन मॉल लेकर गया। मॉल में मुझे यानी ‘गुत्थी’ को देखकर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई और सब मेरे साथ पिक्चर खिंचाने लगे। ये देखने के बाद बेटे को एहसास हुआ कि पापा गलत काम नहीं कर रहे हैं। तब मैंने उसे समझाया और कहा कि जिस काम से हम दूसरों के चेहरों को खुशी लाते हैं, वो काम गलत नहीं होता।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here