• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Basant Panchami 2021 : राष्ट्रपति-पीएम ने देशवासियों को दी बसंत पंचमी की बधाई , भक्तों ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी…

1 min read

Basant Panchami 2021 : राष्ट्रपति-पीएम ने देशवासियों को दी बसंत पंचमी की बधाई , भक्तों ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी…

NEWSTODAYJ नई दिल्ली : आज पूरा देश बसंत पंचमी का पावन पर्व मना रहा है।प्रयागराज, काशी और हरिद्वार में लोगों ने इस शुभ अवसर पर गंगा नदी में आस्था की डुबकी लगाई है।

यह भी पढ़े…Road accident : तीन गाड़ियां आपस में जोरदार आवाज के साथ भिड़े , पांच लोगों की मौत , पांच लोग घयाल…

तो वहीं इस मौके पर देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत तमाम हस्तियों ने देशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने Tweet किया है कि ‘बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं तो वहीं पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा है.

कि बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा के पावन अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।आपको बता दें कि बसंत पंचमी का दिन कला और संगीत की देवी मां सरस्वती को समर्पित है, कहते हैं जब तक इंसान को मां सरस्वती का आशीष नहीं मिलता है तब तक वो प्रगति के पथ पर आगे नहीं बढ़ सकता है, इसलिए बसंत पंचमी के दिन लोग अपने-अपने घरों में माता की प्रतिमा की पूजा-अर्चना करते हैं, इस पर्व को मुख्य रूप से बसंत यानि नई फसलों पर फूल आने के दिन के रूप में मनाया जाता है, बसंत पंचमी को श्री पंचमी भी कहा जाता है तो आज कहीं पर कहीं कौमुदी उत्सव मनाया जाता है।

प्रात:काल स्नानादि से निवृत होकर साफ-स्वच्छ वस्त्र पहनकर पूजा स्थान में बैठें। एक चौकी पर श्वेत वस्त्र बिछाकर देवी सरस्वती का चित्र या मूर्ति स्थापित कर पूजन संपन्न करें। देवी को सफेद और नीले पुष्प अर्पित करें। खीर का नैवेद्य लगाएं। इसके बाद सभी को सरस्वती वंदना करनी चाहिए क्योंकि इससे इंसान के जीवन में ज्ञान का प्रकाश आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.