• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

Dhanbad News : मंकीपॉक्स से एहतियात बरतने के लिए डॉक्टर सिविल सर्जन ने सभी नागरिकों से किया अपील

1 min read

NEWSTODAYJ : कोयलांचल व आसपास के इलाकों में मंकीपॉक्स नामक वायरल बीमारी से बचाव के लिए सतर्कता व जागरूकता निहायत जरूरी है। इस संबंध में सिविल सर्जन डॉ. श्याम किशोर कांत ने जिले के लोगों से सतर्क रहने व एहतियात बरतने की अपील की है।

 

यह भी पढ़े…..Crime News : लालू यादव के करीबी भोला यादव गिरफ़्तार, चार ठिकानों पर जारी है CBI की रेड

सिविल सर्जन ने  बताया कि मंकीपॉक्स एक वायरल बीमारी है। जिसके लक्षण दिखने के बाद मरीज को आइसोलेट होकर रहने की आवश्यकता है। साथ ही इसकी सूचना नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र को जल्द से जल्द देनी चाहिए। उन्होंने यह भी बताया कि जिले में अब तक किसी व्यक्ति में इसके लक्षण नहीं देखे गए हैं। परंतु विश्व के 75 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स अपना कहर फैला चुका है। भारत में भी कुछ मामले सामने आए है।

 

यह भी पढ़े….Dhanbad News:शव मिलने से इलाके में फैली सनसनी जांच में जुटी पुलिस

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शनिवार को मंकीपाक्स के प्रकोप को अब वैश्विक आपातकाल घोषित कर दिया है। मंकीपाक्स के खतरे को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने हिदायतें जारी की हैं, जिसके मुताबिक जिन लोगों में मंकीपाक्स के लक्षण दिखाई दें, उसकी सूचना अपने राज्य के स्वास्थ्य विभाग को देने और ऐसे लोगों से दूरी बनाए रखने को कहा गया है।

 

यह भी पढ़े…..Dhanbad News : नगर निगम ने बुलडोजर लेकर सड़क किनारे अतिक्रमण स्थानों को कराया खाली

 

क्या है मंकीपाक्स? : मंकीपाक्स वायरस एक मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है। 1958 में यह पहली बार शोध के लिए रखे गए बंदरों में पाया गया था। इस वायरस का पहला मामला 1970 में रिपोर्ट किया गया है। मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षावन क्षेत्रों में यह रोग में होता है।

 

यह भी पढ़े….Dhanbad News : जज उत्तम आनंद की पहली पुण्यतिथि पर न्यायालय सुना सकता है फैसला

मंकीपाक्स का लक्षण :  बार-बार तेज बुखार आना पीठ और मांसपेशियों में दर्द।  त्वचा पर दानें और चकते पड़ना। खुजली की समस्या होना। शरीर में सामान्य रूप से सुस्ती आना। मंकीपाक्स वायरस की शुरुआत चेहरे से होती है।  संक्रमण आमतौर पर 14 से 21 दिन तक रहता है। चेहरे से लेकर बाजुओं, पैरों और शरीर के अन्य हिस्सों पर रैशेस होना। गला खराब होना और बार-बार खांसी आना।

 

यह भी पढ़े…..Dhanbad News : बीजेपी ने किया 9 सूत्री मांगों को लेकर धरना

 

ध्यान दें! कैसे फैलता है संक्रमण : मंकीपाक्स एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। ऐसे में लोगों को शारीरिक संपर्क से बचाव रखना चाहिए।  संक्रमित व्यक्ति या किसी व्यक्ति में मंकीपाक्स के लक्षण हैं, तो उसे तुरंत डाक्टर से संपर्क करना चाहिए।  संक्रमित व्यक्ति को इलाज पूरा होने तक खुद को आइसोलेट रखना चाहिए। मंकीपाक्स वायरस त्वचा, आंख, नाक या मुंह के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है।  यह संक्रमित जानवर के काटने से, या उसके खून, शरीर के तरल पदार्थ, या फर को छूने से भी हो सकता है।

 

यह भी पढ़े…..Dhanbad News : चाल धंसने से 30 वर्षीय युवक की हुई मौत अन्य गंभीर रूप से घायल

 

क्या है मंकीपाक्स का इलाज : मंकीपाक्स का कोई इलाज नहीं है। लेकिन चेचक का टीका मंकीपाक्स को रोकने में 85 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है। मंकीपाक्स को यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने इसे कम जोखिम वाला वायरस बताया है।

 

यह भी पढ़े……Dhanbad News : चाल धंसने से 30 वर्षीय युवक की हुई मौत अन्य गंभीर रूप से घायल

Leave a Reply

Your email address will not be published.