• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

1साल के लिए सभी केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी कटौती के साथ MPLAD फंड निलंबित

1 min read

1साल के लिए सभी केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी कटौती के साथ MPLAD फंड निलंबित

NEWS TODAY – कोरोना वायरस को लेकर अर्थव्यवस्था पर गहरा आघात लगा हैं। लॉकडाउन के चलते देश की अर्थव्यवस्था पर जो बोझ पड़ रहा है, उसको कम करने के लिए केंद्र सरकार ने एक अहम कदम उठाते हुए एक साल के लिए सभी केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों की सैलरी में 30 फीसदी कटौती करने का फैसला लिया है
सोमवार को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया, “केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी है। 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30% तक कम किया जाएगा।
प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है। यह धनराशि भारत के कंसोलिडेटेड फंड में जाएगी। इसका मतलब अब राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपाल भी 30 फीसदी कम वेतन लेंगे।
कैबिनेट ने भारत में कोरोनावायरस के बढ़ रहे प्रभाव के प्रबंधन के लिए 2020-21 और 2021-22 के लिए सांसदों को मिलने वाले MPLAD फंड को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है। जावड़ेकर ने आगे कहा कि 2 साल के लिए MPLAD फंड के 7900 करोड़ रुपए का उपयोग भारत की संचित निधि में किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.