• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

सेबी ने माल्या के कारण की कंपनी कानून में संशोधन की मांग

1 min read

नई दिल्ली।

सेबी ने माल्या के कारण की कंपनी कानून में संशोधन की मांग

नई दिल्ली। पूंजी बाजार को नियंत्रित करनेवाली संस्था सेबी ने सरकार से कंपनीज एक्ट में संशोधन की मांग की है। सेबी ने सरकार से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि अगर उसकी ओर से किसी कंपनी के डायरेक्टर को अयोग्य घोषित किया जाता है तो वह तुरंत अपनी पोस्ट से हट जाए।  कंपनीज एक्ट के तहत अगर किसी डायरेक्टर को एक कोर्ट या ट्राइब्यूनल के ऑर्डर में अयोग्य घोषित किया गया है तो उसकी पोस्ट खाली हो जाएगी।Image result for माल्या vs सेबी लेकिन एक्ट में सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) के ऑर्डर की अलग से जानकारी नहीं है। देश में लिस्टेड कंपनियों के रेगुलेशन की निगरानी सेबी के पास है।
इसी ऑर्डर के जरिए माल्या और अन्यों पर सिक्योरिटीज मार्केट में ट्रांजैक्शन करने पर रोक भी लगाई गई थी। इससे पहले माल्या की अगुवाई वाले बिजनेस ग्रुप की कंपनी रही यूनाइटेड स्पिरिट्स लिमिटेड में कथित तौर पर फंड के डायवर्जन की जांच हुई थी। अरबों रुपये के लोन पर डिफॉल्ट करने वाले कारोबारी विजय माल्या के ऐसा न करने के कारण सेबी ने एक्ट में संशोधन करने की मांग उठाई है।

माल्या ने बाद में यह बिजनेस ग्लोबल शराब कंपनी डियाजियो को बेच दिया था। Related imageहालांकि, माल्या ने ऑर्डर का पालन नहीं किया था और वह महीनों तक अपने ग्रुप की एक अन्य लिस्टेड कंपनी यूनाइटेड ब्रुवरीज लिमिटेड के डायरेक्टर बने रहे थे। सेबी के ऑर्डर के बाद माल्या ने सेबी की निंदा भी की थी। उनका कहना था कि फंड डायवर्जन के आरोप गलत हैं और उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

सेबी ने एक प्रपोजल में कहा है कि कंपनीज एक्ट में यह स्पष्ट किया जाना चाहिए कि अगर सेबी की ओर से अयोग्य घोषित करने वाला ऑर्डर दिया जाता है तो व्यक्ति को तुरंत अपनी पोस्ट छोड़ देनी चाहिए। अधिकारियों ने बताया कि फाइनेंस मिनिस्ट्री प्रस्तावित संशोधन को लेकर सहमत है और उसने सेबी से इसे अपने बोर्ड से स्वीकृत कराने के बाद कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री के पास भेजने के लिए कहा है, जो कंपनीज एक्ट के लिए नोडल मिनिस्ट्री है। सेबी ने अपने प्रपोजल में जनवरी 2017 में दिए गए अंतरिम आदेश का जिक्र किया है जिसके जरिए उसने माल्या और छह अन्यों पर किसी लिस्टेड कंपनी में डायरेक्टर बनने पर अगले निर्देश तक रोक लगाई थी।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें