• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

पत्नी ने मासूम को गोद में लिए पति की सजाई चिता, 12 साल की बेटी ने दी मुखाग्नि…

1 min read

पत्नी ने मासूम को गोद में लिए पति की सजाई चिता, 12 साल की बेटी ने दी मुखाग्नि…

 

NEWSTODAYJ_लातेहार : झारखंड के लातेहार जिले के चंदवा में दिल को पथरा देनेवाली एक घटना शुक्रवार को सामने आई है। जहां गोद में मासूम को लिए पत्नी ने पति की चिता सजाई और 12 साल की बेटी ने मुखाग्नि देकर दाह-संस्कार किया। नदी किनारे धूप में तपती चट्टान पर मां-बेटी नंगे पांव उस शख्स को जलते हुए देखती रहीं जो अब तक उनके जीवन का एकमात्र सहारा था। कोरोना वायरस के खौफ से कोई पड़ोसी या रिश्तेदार उनके इस दुख में शरीक नहीं हुआ। बताया जाता है कि शहर से सटे पंचमुखी हनुमान मंदिर मोहल्ले में राजेन्द्र मिस्त्री नामक शख्स की अचानक मौत हो गई। उसके मौत की सूचना बेटी ने आसपास के लोगों को दी। लेकिन, कोई भी मृतक के अंतिम संस्कार में जाने को तैयार नहीं हुआ। राजेंद्र अपने घर का इकलौता पुरुष सदस्य था।

यह भी पढ़े

राज्य:कोरोना की भयावह स्थिति के कारण कई राज्यों ने लगाए कड़े प्रतिबंध

 

घर में शव पड़ा होने की सूचना कुछ लोगों ने बीडीओ सुरेंद्र कुमार सिंह को दी। इसके बाद वह प्रशासनिक कर्मियों का दल लेकर मृतक के घर पहुंचे। BDO ने चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से एक एम्बुलेंस बुलाई। इसके बाद लाश को देवनद के किनारे ले जाया गया। वहां राजेंद्र की 12 साल की बेटी ने अपने पिता को मुखग्नि दी। बता दें कि मृतक के परिवार बेहद गरीबी में जीवन यापन कर रहा था। उसके निधन से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। परिवार की खस्ता माली स्थिति को देखते हुए BDO ने आर्थिक सहायता और खाद्यान्न उपलब्ध कराया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.