• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

मानवता शर्मसार_उत्तर प्रदेश: चाचा की मौत कोरोना से होने पर भतीजे ने शव को गंगा में बहाया, वीडियो वायरल होते ही भतीजा गिरफ्तार……

1 min read

मानवता शर्मसार_उत्तर प्रदेश: चाचा की मौत कोरोना से होने पर भतीजे ने शव को गंगा में बहाया, वीडियो वायरल होते ही भतीजा गिरफ्तार……

 

NEWSTODAYJ_उत्तर प्रदेश: के बलरामपुर से रिश्तों को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है. कोरोना संक्रमण की वजह से हुई मौत के बाद परिवार ने अंतिम संस्कार की जगह शव को राप्ती नदी में फेंक दीया. इस घटना का वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने दो लोगो को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने मृतक के भतीजे समेत एक और शख्स को गिरफ्तार किया है.

 

वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि दो लोग एक शव को पुल से राप्ती नदी में फेंक रहे हैं. दोनों में से एक शख्स ने पीपीई किट भी पहनी हुई है. जिस दौरान शव को पुल से नदी में फेंका जा रहा था तभी वहां से गुजर रहे किसी शख्स ने पूरी घटना का वीडियो (Video) बना लिया. पुलिस को जैसे ही इस बात का पता चला उसने तुरंत मामले की छानबीन शुरू की, जिसके बाद दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. यह घटना राप्ती नदी पर बने सिसई घाट पुल की है.

 

 

नदी में फिंकवाया कोरोना संक्रमित चाचा का शव

जांच के दरान सामने आया है कि जिस शख्स के शव को नदी में फेंका गया था वह शोहरताबाद जिले के सिद्धार्थनगर के रहने वाले प्रेम नाथ मिश्रा का था. खबर के मुताबिक उनकी तबीयत अचानक खराब होने के बाद भतीजे संजय ने उन्हें इलाज के लिए 25 मई को जिला अस्पताल में भर्ती कराया था. वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. तबीयत ज्यादा बिगड़ता देख उन्हें दूसरे अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया था. लेकिन 28 मई को उनकी मौत हो गई.

 

प्रेमनाथ के भतीजे संजय ने उनका अंतिम संस्कार न करके एक सफाई कर्मचारी और श्मशान घाट में काम करने वाले शख्स को रुपये देकर उनके शव को पानी में प्रवाहित करने के लिए कह दिया. इस काम के लिए संजय ने सफाई कर्मचारी मनोज को 1500 रुपये और श्मशान घाट में काम करने वाले चंद्र प्रकाश को एक हजार रुपये दिए थे.

 

दो लोगों ने शव को पुल से नदी में फेंका

पुलिस ने बताया कि संजय अपने चाचा के शव को राप्ती नदी में प्रवाहित करना चाहता था. लेकिन बारिश होने की वजह से दोनों लोगों ने पत्थर से बांधकर उनके शव को पुल से नीचे फेंक दिया. हालांकि इस बात से संजय ने काफी नाराजगी भी जताई थी. लेकिन उसी दौरान वहां से निकल रहे किसी शख्स ने घटना का वीडिया बना लिया. पुलिस ने संजय और सफाईकर्मी मनोज को गिरफ्तार कर लिया है. एक आरोपी अब भी फरार है. साथ ही पुलिस वीडियो बनाने वाले शख्स की भी तलाश कर रही है.

 

बताया जा रहा है कि प्रेम नाथ के परिवार में उनके भाई के अलावा कोई भी नहीं था. उनके भाई मुंबई में रहते थे. इसीलिए लॉकडाउन के दौरान वह अपने भतीजे संजय के घर रहने चले गए थे. लेकिन वहां पर उनकी तबीयत अचानक खराब हो गई थी और फिर अस्पताल में मौत हो गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.