सोहराय पेंटिंग की झलक

न्यूज़ टुडे

धनबाद।

धनबाद स्टेशन में दिख रही मधुबनी तथा सोहराय पेंटिंग की झलक
धनबाद। मधुबनी की पेंटिंग धनबाद स्टेशन की सुंदरता पर चार चांद लगा रही है। रांची की एनजीओ स्तंभ की महिला कलाकार अपनी कला को वॉल पेंटिंग के माध्यम से स्टेशन की खूबसूरती को नया आयाम दे रही है।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

यहाँ दीवारों पर बनाई जा रही पेंटिंग में मधुबनी पेंटिंग के अलावे झारखंण्ड की सोहराय , झरिया कोयला खदान का दृश्य एवं स्वच्छता सन्देश परिलक्षित हो रही है। रोजाना रेल से यात्रा करने वाले हजारो यात्री यहाँ की वॉल पेंटिंग देख रोमांचित हो रहे है। एनजीओ स्तम्भ की प्रमुख जयश्री देवी ने बताया कि एनजीओ अपने यहाँ महिलाओ को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने के उपरांत ऐसे कार्यो में शामिल कर उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान करती है।

धनबाद स्टेशन में जारी वॉल पेंटिंग के इस कार्य में करीब 20 महिलाओ का समूह इस कार्य में लगा है। एक सप्ताह के अंतराल में पूरे स्टेशन परिसर की सुंदरता में चार चांद लगाने हेतु इस पेंटिंग के कार्य को पूरा किया जायेगा। उन्होंने बताया कि पेंटिंग में न सिर्फ यात्रियो को स्टेशन साफ सुथरा रखने हेतु स्वच्छता सन्देश होंगे बल्कि उन्हें मधुबनी की पेंटिंग व झारखण्ड की कल्चर सोहराय की झलक भी पेंटिंग में देखने को मिलेगी। यहाँ रांची , गुमला , लोहरदग्गा की महिला कलाकार पेंटिंग वर्क को पूरा कर रही है।

इससे पूर्व यह संस्था रांची में नगर निगम के स्वच्छता सन्देश को वॉल पेंटिंग में परिलक्षित कर चुकी है। उन्होंने कहा कि संस्था पहले साड़ियों में आर्टक्राफ्ट का कार्य करती थी पर रोजगार सृजित नहीं हो पाने से इस क्षेत्र को अपनाया गया और लगातार इस संस्था से प्रशिक्षण लेने के उपरांत महिला कलाकार रोजगार के अवसर भी प्राप्त कर रही है। संस्था की महिला कलाकार प्रियंका , रीतू , नीतू आदि अपनी कला का बेहतरीन नमूना इस वॉल पेंटिंग में प्रदर्शित कर रही है।

newstodayjharkhand@gmail.com….watsaap9386192053

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here