• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

प्रिंट रेट से अधिक मूल्य पर बेचा जा रहा है शराब……

1 min read

प्रिंट रेट से अधिक मूल्य पर बेचा जा रहा है शराब……

NEWSTODAYJ (रवि कुमार गुप्ता)बरवाडीह:- बरवाडीह प्रखंड के अंग्रेजी शराब बिक्री केंद्र पर प्रिंट मूल्य से ज्यादा रेट पर बेची जा रही है शराब एवं बियर बताते चलें कि सरकार द्वारा शराब बिक्री पर कई दिशा निर्देश जारी किए गए हैं जिसके तहत ब्रांडो के आधार पर अंग्रेजी शराब एवं बियर का मूल्य निर्धारित किया गया हैl

लेकिन बरवाडीह अंग्रेजी शराब बिक्री केंद्र पर निर्धारित से मूल्य से ज्यादा दाम पर बियर एवं अंग्रेजी शराब बेची जा रही है सरकार द्वारा निर्धारित 130 से 30 रुपये अधिक पर बीयर बोतल की जगह 170 रूपये प्रति बोतल बियर,वाइन मैं 20 से 40 रुपये मूल्य वसूला जा रहा है जिसे देखते हुए स्पष्ट नजर आ रहा है कि शराब विक्रेताओं पर सरकार द्वारा निर्देशित किसी भी मार्गदर्शन का कोई प्रभाव नजर नहीं आ रहा है शराब विक्रेता अपनी मनमानी तथा अपने मूल्यों के आधार पर ही शराब बिक्री कर रहे हैं।

ये भी पढ़े..

86 नए मरीजों के साथ झारखण्ड में कुल कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1435-मौत की संख्या 8  

अनलॉक 1 के दरमियान दिए गए सशस्त्र छूट के आधार पर शराब की बिक्री में लगातार शराब विक्रेताओं द्वारा उपभोक्ताओं से मूल्य से ज्यादा वसूला जा रहा है और साथ ही साथ दुकान के स्टॉप अभय ने कहा मालिक के आदेश के बाद ली जा रही है अधिक पैसा ।वही इस मामले पर प्रशासन भी आंख मूंदकर बैठी हुई है प्रिंट से ज्यादा पर शराब बिक्री करने के दौरान प्राप्त मूल्य को राजस्व हानि माना जा सकता है यानी प्रति बोतल ₹20 से 40 की अत्यधिक का फायदा जिसका उल्लेख शराब बिक्री पंजी में नहीं होता है इस तरह की अवैध धंधा या कहें कि अवैध वसूली सरकार को गंभीर आर्थिक संकट एवं भारी भारी मात्रा में राजस्व के नुकसान हो सकता है वही इस मामले पर अंचल अधिकारी ने कहा कि अगर ऐसी मामला है जांच कर की जाएगी कार्रवाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.