नक्सलियों का उत्पाद,वनरक्षी आवास और गेस्ट हाउस को आइडी लगाकर ब्लास्ट कर दिया,वन विभाग की संपत्ति नष्ट, एक कार और एक बाइक को भी नक्सलियों ने ब्लास्ट कर दिया…

NEWSTODAYJ : चाईबासा।झारखण्ड में नक्सली गतिविधि तेज हो गया है आये दिन नक्सलियों द्वारा घटना को अंजाम दिया जा रहा है।चाईबासा के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बरकेला में शनिवार देर रात नक्सलियों ने भारी उत्पात मचाया है।मिली जानकारी अनुसार सैकड़ों की संख्या में आये नक्सलियों ने वनरक्षी आवास और गेस्ट हाउस को आइडी लगाकर उड़ा दिया।जिसमें वन विभाग की संपत्ति नष्ट हुई है. वहीं एक कार और एक बाइक को भी नक्सलियों ने ब्लास्ट कर जला दिया है।घटना के बाद नक्सलियों ने पोस्टर लगाकर धमकी दी है।घटना के बाद आसपास के क्षेत्र में दहशत का माहौल है।इधर, घटना के बाद से इलाके में पुलिस के द्वारा अभियान चलाया जा रहा है।

यह भी पढ़े…

राहत की खबर : बच्चन परिवार में सास बहू की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आई निगेटिव…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

चाईबासा में नक्सली अपनी पैठ मजबूत करने की कोशिश में लगे हैं. जिस वजह से जिले में नक्सली घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं।इन दिनों पोड़ाहाट एंव सारंडा क्षेत्र में भाकपा माओवादी के तीन दस्ता सक्रिय है. ये तीनों दस्ता समय-समय पर पुलिस को चुनौती देने का काम कर रहे हैं।हालांकि पुलिस और सीआरपीएफ द्वारा लगातार संयुक्त अभियान चलाये जाने से इनकी कार्य-गति पर ब्रेक लगी है।नक्सली अपने संगठन को मजबूत करने के लिए सूचना तंत्र के माध्यम से सुदूरवर्ती इलाकों के ग्रामीणों को अपनी ओर आकर्षित करने की मुहिम चला रहे हैं।

यह भी पढ़े…

फिर से बढ़ी डीजल की कीमत, पेट्रोल स्थिर, प्रति लीटर ये है दर पढ़े पूरी खबर…

पौड़ैयाहाट के वनक्षेत्र में माओवादी सुरेश मुंडा-जीवन कंडुलना का दस्ता और सारंडा में अनमोल दा, मिसिर बेसरा व मोछू उर्फ लंबू का दस्ता सक्रिय है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भाकपा माओवादी संगठन के हर दस्ते में 15 से 20 की संख्या में सदस्य हैं।इनमें महिला नक्सलियों की संख्या लगभग 5-7 होती है. पुलिस-प्रशासन के पास इनकी पहचान नहीं होने की वजह से ये बड़ी आसानी से लोकल बाजारों में खाद्य सामग्रियों की खरीदारी करने में भी सक्रिय रहती हैं।वर्तमान में महिलाएं पुरुष माओवादी के साथ पुलिस मुठभेड़ में बढ़-चढ़कर शामिल हो रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here