दिल्ली:6 से 8 महीने में आएगी तीसरी लहर, जुलाई तक थम जाएगा सेकंड वेव….

दिल्ली:6 से 8 महीने में आएगी तीसरी लहर, जुलाई तक थम जाएगा सेकंड वेव….

 

NEWSTODAYJ_ दिल्ली :6 से 8 महीने में आएगी तीसरी लहर, जुलाई तक थम जाएगा सेकंड वेव.

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

कोरोना की दूसरी लहर ने देशभर में अपना कहर बरपा रहा है. इस बीच भारत सरकार के विज्ञान मंत्रालय के तहत विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से स्थापित वैज्ञानिकों के तीन सदस्यीय पैनल ने यह अनुमान लगाया है कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर इस साल जुलाई तक थम सकती है और करीब 6 से 8 महीनों में महामारी की तीसरी लहर के आने की आशंका जताई गई है.

यह भी पढ़ें…दिल्ली:जारी है दिल्ली में बूंदाबांदी,देश के इन इलाकों में हो सकती है बारिश

बताया गया कि अगर कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज नहीं किया गया तो 6 से 8 महीनों में कोरोना की तीसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है. वैज्ञानिकों ने लोगों से कोरोना रोकथाम को लेकर बताए गए नियमों का पालन किए जाने पर भी जोर दिया है. SUTRA मॉडल का उपयोग करते हुए वैज्ञानिकों ने कहा कि मई के अंत में प्रति दिन लगभग 1.5 लाख नए मामले आएंगे और जून के अंत में हर रोज 20,000 मामले सामने आएंगे. जुलाई तक कोरोना की दूसरी लहर थम सकती है.एनएफ

वहीं पैनल के एक सदस्य और आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर ने कहा कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान, केरल, सिक्किम, उत्तराखंड, गुजरात, हरियाणा के अलावा दिल्ली और गोवा जैसे राज्य में पीक आ चुका है. तमिलनाडु 29 से 31 मई और पुडुचेरी में 19-20 मई को पीक आ सकता है. पूर्व और पूर्वोत्तर के राज्यों को अभी पीक देखना बाकी है. असम 20-21 मई, मेघालय में 30 मई, त्रिपुरा में 26-27 मई तक पीक आ सकता है. हिमाचल प्रदेश और पंजाब में अभी कोरोना के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है. हिमाचल प्रदेश में 24 मई तक और पंजाब में 22 मई तक पीक आ सकता है.

कानपुर और हैदराबाद आईआईटी के वैज्ञानिकों ने भारत में कोविड ग्राफ का पूर्वानुमान लगाने के लिये SUTRA मॉडल लागू किया. यह पहली बार तब सार्वजनिक रूप से लोगों के ध्यान में आया, जब उसके एक विशेषज्ञ सदस्य ने अक्तूबर 2020 में यह घोषणा की कि भारत में कोविड की स्थिति अपनी चरम सीमा पर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here