टाटा तीरंदाजी अकादमी की कोमलिका बारी वर्ल्ड खिताब जीतने वाली तीसरी भारतीय तीरंदाज बनी।

जमशेदपुर।

टाटा तीरंदाजी अकादमी की कोमलिका बारी वर्ल्ड खिताब जीतने वाली तीसरी भारतीय तीरंदाज बनी।

जमशेदपुर। टाटा तीरंदाजी अकादमी की कोमलिका बारी ने स्वर्णिम निशाना साध कर विश्व युवा तीरंदाजी चैंपियनशिप के कैडेट रिकर्व वर्ग के फाइनल में इतिहास रच दिया। बताते चलें कि स्पेन की राजधानी मैड्रिड में चल रहे विश्व युवा तीरंदाजी चैंपियनशिप के कैडेट रिकर्व वर्ग के फाइनल में कोमलिका ने जापान की वाका सोनोडा पर 7-3 से जीत के साथ स्वर्ण पदक जीता। वहीं बता दें कि गुरुवार को खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में कोमलिका ने कोरियाई तीरंदाज जांग मी को 6-5 से पराजित किया था। 17 साल की कोमलिका अंडर-18 वर्ग में विश्व रिकर्व चैम्पियन बनने वाली भारत की दूसरी तीरंदाज बनीं। मालूम हो कि उनसे पहले दीपिका कुमारी ने 2009 में यह खिताब जीता था। पल्टन हंसदा ने 2006 में वर्ल्ड कंपाउंड जूनियर वर्ग में खिताब हासिल किया था। फाइनल में कोमलिका को ज्यादा चुनौती नहीं मिली। कोमलिका ने पहले दो सेट आसानी से जीत 4-0 की बढ़त बना ली। हालांकि जापानी तीरंदाज ने वापसी कर मुकाबले को 5-1 पर लाने में सफलता हासिल की। कोमलिका स्वर्ण पदक से एक कदम दूर थी। चौथे सेट में भी जापानी खिलाड़ी सोनोडा ने जीत हासिल कर मुकाबले को 5-3 पर ला खड़ा किया। लेकिन अंतिम सेट में कोमलिका ने स्वर्ण पदक को अपनी झोली में डाल लिया।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here