जाने 14 को नहीं बल्कि 15 को क्यूँ मनाई जा रही है मकर संक्रांति

जाने 14 को नहीं बल्कि 15 को क्यूँ मनाई जा रही है मकर संक्रांति

NEWS TODAY :: मकर संक्रांति की तारीखों को लेकर एक भ्रम की स्थिति पैदा हो गई हैl कहीं 14 जनवरी तो कहीं 15 जनवरी की बात की जा रही हैl तो आइये इस भ्रम से पर्दा उठाकर आपको इसके बारे में बताते हैंl बता दें कि, यह भ्रम की स्थिति मकर संक्रांति की तारीख को लेकर हैl मकर संक्रांति का सीधा संबंध सूर्य से हैl मान्यता और ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो इस प्रक्रिया को ही मकर संक्रांति कहते हैंl अधिकांशत: सूर्य का ये गोचर प्रति वर्ष 14 जनवरी को होता है लेकिन इस बार यह 15 जनवरी को हो रहा हैl इसलिए इस वर्ष मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी को हैl इसलिए मकर संक्रांति की तारीख को लेकर किसी प्रकार कोई भ्रम न रखेंl क्योंकि सूर्य के गोचर को ही संक्रांति कहते हैंlइस दिन सूर्य भगवान की पूजा की जाती हैl हिंदू धर्म में इस पर्व का खासा महत्व हैl इस दिन इसे मोक्ष का पर्व भी कहा जाता हैl इसीलिए इस दिन नदियों में स्नान करने की परंपरा भी हैl इस दिन सूर्य तुला राशि में नीच का और मेष राशि में उच्च का हो जाता हैl वहीं मकर राशि सूर्य के शत्रु ग्रह शनि की राशि हैl गौरतलब है कि, मकर संक्रांति के दिन घरों में भी विशेष पूजा अर्चना की जाती है. इसके बाद खिचड़ी खाने की भी परंपरा है. एक मान्यता है कि इस दिन किया गया दान सभी दानों में श्रेष्ठ होता है. मकर संक्रांति के दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं जो बहुत ही शुभ माना जाता है.

 

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here