• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

कोरोना अपडेट: वैक्सीन असरदार कोरोना के अलग अलग वेरिएंट पर,अपोलो स्वास्थ्य कर्मियों पर किया गया अध्ययन……

1 min read

कोरोना अपडेट: वैक्सीन असरदार कोरोना के अलग अलग वेरिएंट पर,अपोलो स्वास्थ्य कर्मियों पर किया गया अध्ययन……

 

NEWSTODAYJ_कोरोना अपडेट:कोरोना की वैक्सीन विभिन्न म्यूटेंट पर भी वैक्सीन असरदार है। अपोलो अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मियों पर किए गए अध्ययन में इस बात का दावा किया गया है। अस्पताल के समूह चिकित्सा निदेशक डॉक्टर अनुपम सिब्बल ने बताया कि अपोलो के 69 स्वास्थ्य कर्मचारी वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोना से संक्रमित हो गए थे। इसे ब्रेक थ्रू इन्फेक्शन कहा जाता है। संक्रमित हुए करीब 48 फीसदी कर्मियों में कोरोना का क्च1.617.2 स्ट्रेन मिला।

यह भी पढ़ें…

कोरोना अपडेट:सावधान! दुनिया में आ सकता है कोरोना से ज्यादा खतरनाक वायरस, WHO ने दी चेतावनी

इससे संक्रमित होने के बावजूद भी इन कर्मचारियों में से किसी में भी गंभीर लक्षण नहीं आए। इससे यह बाद साबित होती है की वैक्सीन अलग-अलग स्ट्रेन पर काम कर रही है।

 

 

अस्पताल के अध्ययन में यह भी पाया गया है कि जिन लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। उनमें से सिर्फ 0.06 फीसदी ही ऐसे हैं, जिन्हें फिर से संक्रमण हुआ है। इनमें से भी अस्पताल में भर्ती होने वाली की संख्या काफी कम रही। यह दर्शाता है कि वैक्सीन शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बना रही है। इसलिए सभी लोगों से अपील है कि वह वैक्सीन जरूर लगवाएं। अस्पताल के मुताबिक,  क्च1.617.2 स्ट्रेन के कारण ही देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े थे। इसको कोरोना का काफी घातक स्वरूप माना गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.