कोरोना अपडेट:कोरोना की अगली लहर बन सकती है बच्चों के लिए मुसीबत, दौसा में चौकाने वाला मामला आया सामने….

कोरोना अपडेट:कोरोना की अगली लहर बन सकती है बच्चों के लिए मुसीबत, दौसा में चौकाने वाला मामला आया सामने….

 

 

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

NEWSTODAYJ_ कोरोना अपडेट:भारत में कोरोना वायरस लोगों की जिंदगी पर कहर बनकर टूट रहा है, जिससे अब तक करीब 2.90 लाख लोगों की जान जा चुकी है। संक्रमण की दूसरी लहर के बीच अब तीसरी लहर की संभावना ने केंद्र व राज्य सरकारों की चिंता बढ़ने लगी है।

यह भी पढ़ें….दिल्ली:वैक्सीन की दोनो डोज लेने पर होगा कोरोना के नए वेरिएंट पर असरदार……

तीसरी लहर का मामला

राज्य सरकारों अपने यहां स्थिति पर काबू पाने के लिए लॉकडाउन लागू कर रखा है। तीसरी लहर का ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानकर आपके होश उड़ जाएंगे। राजस्थान के दौसा में, जहां कोरोना की तीसरी लहर की दस्तक के संकेत मिलते दिखाई दे रहे हैं।

दौसा में 341 बच्चे कोरोना की चपेट में

दौसा में 341 बच्चे कोरोना की चपेट में आ गए हैं, यानी कि 341 बच्चों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए दौसा जिला प्रशासन ने चेतीवनी दी है। हो गया है. बता दें कि दौसा में तीसरी लहर के आने के संकेत मिले हैं, जहां 341 बच्चों को कोरोना हुआ है। इन बच्चों की उम्र 0 से 18 वर्ष की है।

दौसा में 341 बच्चे कोरोना संक्रमित

 

दौसा में 1 मई से 21 मई के बीच 341 बच्चे कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। जिले के डीएम ने कहा है कि 341 बच्चे संक्रमित हैं, लेकिन इनमें कोई भी सीरियस नहीं है। फिलहाल, कोविड की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए दौसा जिला अस्पताल को अलर्ट किया गया है।

घर-घर सर्वे का अभियान

इस बीच राजस्थान में ग्रामीण इलाकों में कोरोना की रोकथाम के लिए राजस्थान सरकार अब युद्ध स्तर पर तैयारी में जुट गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव-गांव और डोर-टू-डोर घूमकर और लोगों का कोविड टेस्ट करेगी। गांव में ही कोविड सेंटर बनाया जाएगा और पॉज़िटिव आए मरीज़ों का इलाज शुरू किया जाएगा. घर-घर सर्वे का अभियान शुरू कर दिया गया है।

 

 

गौरतलब है कि तीसरी लहर आने से पहले ही बच्चों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र, कर्नाटक जैसे राज्यों में बच्चों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक हो सकती है। तीसरी लहर में बच्चों के सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव होने की आशंका जताई गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here