कृषि:डीएपी पर सब्सिडी बढ़ने पर कृषि मंत्री ने कहा:अन्य फर्टिलाइजर पर दी जाए छूट….

कृषि:डीएपी पर सब्सिडी बढ़ने पर कृषि मंत्री ने कहा:अन्य फर्टिलाइजर पर दी जाए छूट….

 

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

NEWSTODAYJ_कृषि:डीएपी की बढ़ी कीमत पर केंद्र ने सब्सिडी बढ़ाकर किसानों को राहत दी है, लेकिन छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा है कि डीएवी में सब्सिडी बढ़ाकर केंद्र ने जरूर इसके रेट में कमी की है, लेकिन केंद्र सरकार अब निजी कंपनियों को करीब साढ़े चौदह हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी देगी। इससे निजी कंपनियों को बड़ा फायदा पहुंचाया जा रहा है।

 

ठीक वैसे ही जैसे एक फिल्म में रोटी की कीमत दो रूपए कर दी गई और बाद में जनता की मांग पर एक रूपए पर स्थिर कर दिया गया। चौबे ने कहा कि डीएवी के रेट पुराने रेट पर ला दिए गए, लेकिन एनपीके में भी 1140 रूपए प्रति बैग मिलता था, यह अब 1750 रूपए प्रति बैग दिया गया है। एमओपी में भी 140-150 की वृद्धि की गई है। फास्फेट और पोटास में भी बढ़ोतरी की गई है।

यह भी पढ़ें…कोरोना अपडेट: कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का बढ़ रहा संक्रमण,महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में बढ़े मामले

डीएपी की तरह इनके रेट भी घटाने की जरूरत है। रविंद्र चौबे ने कहा कि मैं फिर केंद्रीय कृषि मंत्री को पत्र लिखूंगा और आग्रह करूंगा कि डीएवी में सब्सिडी तो दे दी है, लेकिन अन्य फर्टीलाइजर के जो रेट बढ़े हैं, उन पर भी सब्सिडी दी जाए। फर्टिलाइजर की कीमत घटने पर हम खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देंगे।

 

इधर डीएपी पर सब्सिडी बढ़ाए जाने के फैसले पर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी हमेशा किसानों के शुभचिंतक रहे हैं। अभी अंतरराष्ट्रीय बाजार की वजह से डीएवी के रेट में बढ़ोतरी हुई थी। इसलिए रेट में अंतर आया था। अब केंद्र द्वारा 14 हजार 775 रूपए की सब्सिडी दी जा रही है।

 

यह कोरोना संकट में किसानों के लिए वरदान है साथ ही 80 हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी रासायनिक खाद्य के लिए केंद्र सरकार एक वर्ष में देती है। 20 हजार करोड़ रूपए की सम्मान निधि केंद्र देता है। किसानों की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए कई योजनाएं केंद्र चला रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here