• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

कहां गए तारामंडल के चार करोड़ रुपए

1 min read

न्यूज़ टुडे

बनाया गया था तारामंडल पर बन गया खंडहर।

धनबाद में पटना के तर्ज पर बनने वाला तारामंडल भ्रष्टाचार की भेट चढ़ गया । लगभग 7 वर्ष पहले 5 करोड़ की राशि से बनने वाले तारामंडल का शिलान्यास तत्कालीन साइंस और टेक्नोलॉजी मंत्री शमरेश सिंह ने किया था और उम्मीद जताई थी कि अगले 3 वर्ष में बनकर तैयार हो जाएगी और इसका सीधा फायदा धनबाद और आसपास के टेक्निकल शिक्षण स्थानों में पढ़ने वाले छात्रों के साथ-साथ यहां घूमने के लिए आने वाले सैलानियों को भी होगा। लेकिन, समय के साथ सत्ता बदली और तारामंडल न बनकर वह स्थान खंडहर में बदल गया ।

असामाजिक तत्वों का होता है अब जमावड़ा।पूरा शहर का फेका जाता है कूड़ा-कचरा।

जहां रात में असामाजिक तत्वों का जमावड़ा होता है आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के लिए साजिशें रची जाती है। शहर का कूड़ा करकट वहीं डम्प किया जाता है वहां जाने पर बज बजाती नालियां आपका स्वागत करती है। न सिर्फ तारामंडल बल्कि कई अन्य सरकारी योजनाएं है जो सरकार के गलत नीतियों और अधिकारियों की भ्रष्टाचारी गतिविधियों के कारण आज अधर में अटकी हुई है।

कहाँ गयें चार करोड़ कोई बताने वाला नही।

बात धनबाद में बनने वाले तारामंडल की करें तो सबसे पहले क़िस्त के रूप में एक करोड़ की राशि निर्गत की गई थी और इस से इमारत का निर्माण करा लिया गया उसके बाद इस के रंगरोगन से लेकर मिन्नी सिंह और इसके इक्यूपमेंट की खरीदारी के लिए जो चार करोड़ की राशि निर्मित की जानी थी उस राशि का क्या हुआ यह बताने वाला आज कोई नही है।सरकार बदलने के बाद उस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया।

पूर्व मंत्री शमरेश सिंह को है इसका गहरा दुख।

पूरे मामले पर जब पूर्व मंत्री शमरेश सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमने कौन सा गलत काम किया था इतना बड़ा सपना देखा था कार्य रुप में परिणत हो रहा था लेकिन यहां अच्छा काम करना चाहता कौन है सारे अधिकारी एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं और उनका धनबाद के लोगों के भविष्य से कोई लेना देना नहीं है।

अब बनने की उम्मीद करना भी बेमानी।

ऐसे में एक बार फिर से यह उम्मीद करना बेमानी लग रही है कि आखिर धनबाद में तारामंडल जो कि अभी अधूरा पड़ा हुआ है इस के पुनर्निर्माण का सपना साकार हो पाएगा या नहीं।

न्यूज़ टुडे झारखंड आप के आस पास के खबरो से रखे आप को आगे।

आप हमें ईमेल भी कर सकते है &newstoday jharkhand@gmail.com watsaap.9386192053

Leave a Reply

Your email address will not be published.