एनएमसी बिल के विरोध में रिम्स के जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी सेवा का किया बहिष्कार। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

रांची।

एनएमसी बिल के विरोध में रिम्स के जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी सेवा का किया बहिष्कार। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

रांची। रांची रिम्स के जूनियर डॉक्टरों ने आज नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) के विरोध में ओपीडी सेवा का बहिष्कार किया है। बता दें कि इससे यहां पहुंचने वाले मरीजों को परेशानी हो सकती है। बताते चलें कि रिम्स में रोजाना राज्यभर से 1200 मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं। एनएमसी के मुद्दे पर रविवार को रिम्स ऑडिटोरियम में जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन (जेडीए) की बैठक हुई। इसमें सोमवार को ओपीडी सेवा से दूर रहने का फैसला लिया गया.जेडीए ने रिम्स के टीचर्स एसोसिएशन से भी उनके आंदोलन में सहयोग करने की अपील की है. हालांकि इमरजेंसी सेवाओं को जेडीए ने अपने आंदोलन से अलग रखा है।जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि एनएमसी बिल के जरिये उनके भविष्य से खिलवाड़ करने की तैयारी चल रही है। आपको बता दें कि इससे पहले भी जूनियर डॉक्टरों ने ओपीडी का बहिष्कार किया था। इस दौरान 900 मरीजों को बिना इलाज के रिम्स से लौटना पड़ा था। देश में अबतक मेडिकल शिक्षा, मेडिकल संस्थानों और डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन से संबंधित काम मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया देखती थी।अब अगर एनएमसी बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी मिल जाती है, तो नेशनल काउंसिल ऑफ इंडिया खत्म हो जाएगी और इसकी जगह नेशनल मेडिकल कमीशन ले लेगा। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान साल 2018 में इस बिल को तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने लोकसभा में रखा था. इसे राज्यसभा से पारित कर दिया गया है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here