• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने ट्रायल किया गया कोरोना का पहला वैक्सीन

1 min read

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने ट्रायल किया गया कोरोना का पहला वैक्सीन

NEWS TODAY – अमेरिका ने कोरोना के पहले वैक्सीन का ट्रायल किया है. इस दौरान वैज्ञानिकों ने पहले शख्स को वैक्सीन की पहली डोज दी है. सिएटल के कैसर परमानेंट वाशिंगटन हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट (Kaiser Permanente Washington Research Institute ) ने इस वैक्सीन को विकसित किया है.

ये भी पढ़े- कोरोनावायरस से लड़ने के लिए बढ़िया सुझाव देने वालों को मिलेगा 1 लाख का इनाम

सिएटल में कैसर परमानेंट वाशिंगटन रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने रिकॉर्ड समय में कोरोना वायरस का वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) विकसित करने का दावा किया, जिसका सोमवार को पहला ट्रायल किया गया. इसमें एक वॉलंटियर की बाजू में वैक्सीन की पहली डोज इंजेक्ट की गई.

कैसर परमानेंटे की स्टडी लीडर डॉ. लिसा जैक्सन (Dr. Lisa Jackson ) ने कहा, “हम टीम कोरोना वायरस हैं.” उन्होंने कहा कि हर कोई चाहता है कि वे इस आपातकाल में जो कर सकता है वो करे. वैक्सीन की पहली डोज एक छोटी टेक कंपनी के ऑपरेशन मेनेजर को दी गई है. इसके अलावा अभी 45 वॉलंटियर्स को एक महीने में इसकी दो डोज दी जाएंगी. सिएटल की एक महीला ने कहा कि हम बहुत ही असहाय महसूस कर रहे थे. यह हमारे लिए एक शानदार मौका है.

अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ (NIH USA) के डॉ. एंथोनी फौसी (Dr. Anthony Fauci) ने कहा कि सोमवार को शुरू हुआ यह अभियान वैक्सीन की जांच के लिए शुरुआती कदम है. इससे हमें यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि वैक्सीन (Vaccine) लोगों पर सही काम कर रहा है या नहीं. उन्होंने कहा कि अगर यह रिसर्च ठीक तरह से भी चली तो भी बड़े पैमाने पर वैक्सीन उपलब्घ कराने में करीब 12 से 18 महीने लग जाएंगेl

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें