अब पुलिस रिकॉर्ड में होंगे बिहार के हर गांव के अपराधी, डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय ने दिया ये निर्देश। पढ़ें पूरी खबर…….

पटना।

अब पुलिस रिकॉर्ड में होंगे बिहार के हर गांव के अपराधी, डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय ने दिया ये निर्देश। पढ़ें पूरी खबर…….

पटना। बिहार में लगातार अपराधों की संख्या बढ़ रही है। अपराधी बेलगाम अपनी मंशा को पूरी कर रहे हैं। आये दिन बेखौफ ये अपराधी किसी भी घटना को अंजाम देने से जरा भी हिचक नहीं रहे हैं। ऐसे में बढ़ रही आपराधिक वारदातों के बीच बिहार पुलिस ने नई शुरुआत की है। प्रदेश के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने मोस्ट वांटेड अपराधियों पर सख्ती करने और उनके खिलाफ कुर्की-जब्ती की कार्रवाई के साथ लगातार अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही गांव-गांव में छिपे अपराधियों का डाटा तैयार करने के भी निर्देश दिए हैं। छपरा में पुलिस दस्ते पर अपराधियों के हमले में दारोगा और कांस्टेबल की मौत के 48 घंटे बाद बिहार पुलिस के मुखिया ने वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के जरिए राज्य के सभी आईजी, डीआईजी, एसएसपी और एसपी के साथ मीटिंग में ये निर्देश दिए हैं। डीजीपी ने अपने निर्देश में हर थाने को गांव के अपराधियों का डाटा बनवाने का निर्देश देते हुए बताया कि इसमें नाम, पता, फोटो और अपराध की जानकारी हो। उन्होंने यह भी बताया कि हर थाना स्तर पर अपराधियों के एलबम बनाए जाएं और आनेवाले दिनों में इसे सीसीटीएनएस पर भी डाला जाए। ताकि भविष्य में अपराध होने पर अपराधियों की पहचान हो सके। ऐसा करने से जमानत पर बाहर निकले अपराधियों की भी निगरानी रखी जा सकेगी। बताया कि आठ तरह के अपराध में शामिल बदमाशों को इस डाटा में रखा जाएगा। इसमें चोरी, गृह भेदन, लूट, डकैती, शराबी, शराब का धंधेबाज, पेशेवर हत्यारा और फिरौती के लिए अपहरण में शामिल होगा। और यदि किसी का अब तक आपराधिक इतिहास पुलिस के पास नहीं है पर वह क्राइम कर रहा तो उसे पुलिस रिकार्ड में लाया जाएगा। यानि इस तरह के किसी भी मामले में जिसका नाम शामिल होगा उसका थानावार डाटा तैयार होगा। डीजीपी ने डाटा तैयार करने के लिए जिलों को दो सप्ताह का समय दिया है। इसके बाद ऐसे तमाम बदमाशों के नाम ‘गुंडा रजिस्टर’ (अपराधियों की सूची का एलबम) में दर्ज किए जाएंगे।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here