• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया इंटरनेशनल इमरजेंसी  भारतीय छात्र आज एयरलिफ्ट किए

1 min read

WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया इंटरनेशनल इमरजेंसी  भारतीय छात्र आज एयरलिफ्ट किए

NEWS TODAY –  विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को लेकर इंटरनेशनल इमरजेंसी घोषित कर दी है। वहीँ दुनिया के कई देशों ने चीन से अपना हवाई संपर्क तोड़ लिया है।

ये भी पढ़े-आतंकियों ने नगरोटा टोल प्लाजा पर की फायरिंग, घटना के बाद नेशनल हाइवे बंद-जम्मू कश्मीर 

चीन सरकार ने भी एडवाइजरी जारी करते हुए कोरोना से प्रभावित किसी भी मरीज के चीन छोड़ने पर रोक लगा दी है। हालात इतने गंभीर है कि सिर्फ कल 24 घंटे के भीतर वुहान में 1700 कोरोना के केस रजिस्टर्ड किए गए हैं। अभी तक चीन के अलग अलग शहरों में 170 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि कोरोना से 7 हजार से ज्यादा लोगों प्रभावित बताए जा रहे हैं।

चीन के वुहान में 700 भारतीय छात्र फंसे हैं। 8 दिन से वुहान शहर लॉकडाउन है। इन छात्रों के पास ना खाने को कुछ बचा है और ना ही पीने का पानी है। ऐसे में भारत सरकार इन छात्रों को बचाने के लिए चिंतित है इसलिए आज चीन के वुहान शहर में फंसे 374 भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट किया जाएगा। आज दो भारतीय प्लेन वुहान जा रहे हैं। बीजिंग में इंडियन एम्बेसी वुहान प्रशासन से लगातार संपर्क में है और तैयारी पूरी कर ली गई है। सभी लोगों को तैयार रहने को कहा गया है लेकिन 374 लोगों में से भारत उन्हें ही आने दिया जाएगा जिनमें कोरोना वायरस का खतरा नहीं है क्योंकि कोरोना से प्रभावित किसी भी शख्स को अभी चीन छोड़ने की इजाजत नहीं है।

WHO चीफ टेड्रोस ऐडनम ने बताया है कि सबसे बड़ी चिंता ऐसे देशों में वायरस को फैलने से रोकने की है जहां स्वास्थ्य व्यवस्थाएं कमजोर हैं। साथ ही उन्होंने साफ किया कि ऐसा करने से चीन पर अविश्वास जैसा कुछ नहीं है बल्कि कोशिश यह है कि दूसरे ऐसे देश जो इससे उबर नहीं सकते, उनकी मदद की जा सके।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें