Vaccine Trials: बच्चों के लिए जल्द शुरू होगा टीकाकरण,फाइजर करेगा जल्द बच्चों पर क्लिनिकल ट्रायल……

0

Vaccine Trials: बच्चों के लिए जल्द शुरू होगा टीकाकरण,फाइजर करेगा जल्द बच्चों पर क्लिनिकल ट्रायल……

NEWSTODAYJ_Vaccine Trials:कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली अमेरिका की दिग्गज दवा निर्माता कंपनी फाइजर ने कहा है कि वह अपनी वैक्सीन का ट्रायल 12 साल के कम उम्र के बच्चों पर भी शुरू करेगा, जिसके तहत पहले चरण की स्टडी में कम संख्या में छोटे बच्चों को वैक्सीन की अलग-अलग डोज दी जाएगी. इसके लिए फाइजर दुनिया के चार देशों- संयुक्त राज्य अमेरिका, फिनलैंड, पोलैंड और स्पेन में 90 से भी ज्यादा क्लीनिकल साइट्स पर 4,500 से ज्यादा बच्चों का चुनाव करेगा.

 

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

कंपनी ने बताया कि वैक्सीन ट्रायल (Covid vaccine Trial) के लिए इस हफ्ते 5 से 11 साल के बच्चों को इनरोल करने का काम शुरू किया जाएगा. इन बच्चों को 10 माइक्रोग्राम की दो डोज दी जाएंगी, जो कि किशोर और वयस्कों को दी जाने वाली वैक्सीन की डोज का एक तिहाई है. इसके कुछ हफ्तों बाद 6 महीने से ज्यादा उम्र के बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल शुरू किया जाएगा और उन्हें तीन माइक्रोग्राम वैक्सीन दी जाएगी.

यह भी पढ़ें..कोरोना नियम उल्लंघन:डीजे की धुन पर बार बालाओं का पिंजरे में अश्लील डांस,भोजपुर पुलिस तमाशा देखती

फाइजर के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी को उम्मीद है कि सितंबर तक 5 से 11 साल के बच्चों का डेटा आ जाएगा, वहीं 2 से 5 साल के बच्चों के लिए डेटा जल्द ही आ सकता है, जिसके बाद कंपनी इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए आवेदन कर देगी. अमेरिका और यूरोपीय संघ में 12 साल से ज्यादा उम्र की बच्चों को फाइजर की वैक्सीन लगाने के लिए पहले ही मंजूरी दी जा चुकी है, हालांकि ये मंजूरी इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए ही दी गई है. इस उम्र वर्ग के बच्चों को वयस्कों के समान ही यानी 30 माइक्रोग्राम की डोज दी जा रही है.

 

मॉडर्ना भी कर रही 12 से 17 साल के बच्चों पर वैक्सीन का टेस्ट

 

फाइजर ने कोरोना की वैक्सीन अपने जर्मन पार्टनर बायोएनटेक के साथ मिलकर बनाई है. फाइजर ने मार्च में 12 से 15 साल के बच्चों पर क्लीनिकल ट्रायल किया था. यूरोपीय मेडिकल संघ और ब्रिटेन की दवा नियामक संस्था ने इसी ट्रायल के आंकड़ों की समीक्षा की है. यूरोपीय संघ की दवा नियामक संस्था ने कहा था कि इस वैक्सीन का बच्चों पर कोई गंभीर साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिला है. फाइजर के अलावा मॉडर्ना भी 12 से 17 साल के बच्चों पर वैक्सीन टेस्ट कर रही है और जल्द ही उसके नतीजे भी सामने आ सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here