Upsc Result 2021:Upsc परीक्षा परिणामों में झारखंड के अभ्यर्थियों का कमाल,उत्कर्ष कुमार 55वां रैंक हासिल किया

NEWSTODAYJ_हजारीबाग: संघ लोक सेवा आयोग के फाइनल परीक्षा परिणामों की घोषणा कर दी गई है. यूपीएससी की परीक्षा में झारखंड के छात्रों ने भी परचम लहराया है. हजारीबाग के रहने वाले उत्कर्ष कुमार ने जहां इस परीक्षा में 55वां रैंक हासिल किया है वहीं देवघर मधुपुर के शुभम मोहन 196 रैंक पर है. जबकि भावना कुमारी जो देवघर से हैं उनका रैंक 376 वां है.

यह भी पढ़े…EDUCATION NEWS:बचपन से IAS बनने का सपना संजोए शुभम को UPSC एग्जाम में मिला पहला स्थान,परिवार को है गर्व
हजारीबाग के उत्कर्ष को मिला 55वां रैंक

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

कहते हैं इंसान अगर सपने देखे और उसे पूरा करने की कोशिश करे तो सफलता उसके कदमों को चूमती है. हजारीबाग के उत्कर्ष ने इसे साबित किया है जिन्हें यूपीएसी की परीक्षा में 55वां रैंक मिला है. सुरेश कॉलोनी के गिरिजा नगर में रहने वाले उत्कर्ष की मां सुषमा वर्णवाल शिक्षिका हैं जबकि पिता महेश कुमार पीडब्ल्यूडी में इंजीनियर हैं, उत्कर्ष की प्रारंभिक शिक्षा डीएवी पब्लिक स्कूल में हुई. इसके बाद उन्होंने उच्चतर शिक्षा कोटा से प्राप्त किया और फिर आईआईटी जैसे प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता हासिल की. उत्कर्ष यहीं नहीं रूके 3 साल की कड़ी मेहनत के बाद यूपीएससी में 55वां रैंक लाकर आखिरकार उन्होंने बड़ी सफलता हासिल की.

 

दूसरे अटेम्पट में मिली सफलता

आईआईटी से पढ़ाई पूरी करने के बाद उत्कर्ष मल्टीनेशनल कंपनी में काम कर रहे थे सालाना उन्हें बड़ा पैकेज भी मिल रहा था. लेकिन देश सेवा की चाहत में उन्होंने यूपीएसी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी. पहले अटेम्पट में वे असफल रहे लेकिन दूसरी परीक्षा में उन्होंने इतिहास रच दिया.

शॉर्टकट से रहें दूर

यूपीएसी परीक्षा में 55वां स्थान लाने के बाद उत्कर्ष ने अपनी सफलता का राज बताया है. उन्होंने कहा कि लाइफ में कभी भी शॉर्टकट नहीं होती है. गोल बनाकर मेहनत किया जाए तो सफलता जरूर मिलती है. उत्कर्ष का ये भी कहना है कि दोस्ती हमेशा अच्छे लोगों से की जानी चाहिए. उन्होंने अपनी सफलता के लिए अपने दोस्तों शिक्षकों और परिवार का आभार जताया. उनका यह भी कहना छात्रों को खुद को जज करने की जरूरत है कि वह क्या कर सकते हैं. उन्होंने सोशल मीडिया पर भी अपने नजरिए को सबके सामने रखा. उन्होंने कहा सोशल मीडिया के दो स्वरूप है. एक अच्छा और दूसरा बुरा. ऐसे में हर एक व्यक्ति को यह सोचना चाहिए कि वह अच्छाई को अपनाएं. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि वे खुद सोशल मीडिया से दूरी बनाए रखा.

बचपन से मेहनती थे उत्कर्ष
उत्कर्ष की सफलता के बाद मां सुषमा वर्णवाल ने बताया कि मेरा बेटा बचपन से ही मेहनती था. मैंने कभी पढ़ाई को लेकर उस पर दबाव नहीं बनाया. उसने जो भी कहा मैने उसका साथ दिया. इसकी वजह से आज उसने कामयाबी हासिल की. पिता महेश कुमार ने भी अपने बेटे की प्रशंसा की और कहा कि उन्हें विश्वास था कि उनका बेटा अपने लक्ष्य में जरूर सफल होगा. उत्कर्ष के माता-पिता ने दूसरे छात्रों को सफल होने के लिए हमेशा सही रास्ता अपनाने की सलाह दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here