NEWSTODAYJ_एशिया की पहली हाइब्रिड कार की तैयारियों में जुटी स्टार्टअप टीम, नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने साझा की कार के मॉडल की तस्वीरें। चेन्नई के एक स्टार्टअप ने देश की पहली फ्लाइंग कार का कॉन्सेप्ट मॉडल तैयार कर लिया है।
मेडिकल इमरजेंसी में मरीजों के लिए भी होगी मददगार, 100-120 किमी/घंटा होगी रफ्तार।

 भारत में कार से आसमान में उडऩे का सपना साकार होने वाला है। चेन्नई के एक स्टार्टअप ने देश की पहली फ्लाइंग कार का कॉन्सेप्ट मॉडल तैयार कर लिया है। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस मॉडल की तस्वीरें साझा की हैं। इसे एशिया की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार बताया जा रहा है।

यह मॉडल चेन्नई की विनता एयरोमोबिलिटी की युवा टीम ने तैयार किया है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस टीम से मुलाकात की और फ्लाइंग कार के कॉन्सेप्ट मॉडल की जांच की। उन्होंने बताया कि इस कार से लोगों और सामान को इधर से उधर ले जाया जा सकेगा। मेडिकल इमरजेंसी में भी यह काफी मददगार साबित होगी। सिंधिया ने कहा कि हाइब्रिड फ्लाइंग कार का कॉन्सेप्ट मॉडल देखकर उन्हें खुशी हुई। इसे दो यात्रियों के लिए डिजाइन किया गया है।

यह भी पढ़े…Technology_व्हाट्सएप से भेजे पैसे और कमाय कैशबैक, जानिए क्या करना है और कैसे मिलेंगे कैशबैक

योगेश रामनाथन की ओर से स्थापित विनता एयरोमोबिलिटी में इसरो के अंतरिक्ष वैज्ञानिक डॉ. ए.ई. मुथुनायगम प्रमुख सलाहकार हैं। रिटायर्ड अमरीकी वायुसेना कर्नल डॉन जोल्डी टीम में अर्बन एयर मोबिलिटी सलाहकार हैं।

  • फ्लाइंग कार की खूबियां…
    1100 किलोग्राम कार का वजन।
    1300 किलोग्राम वजन उठा सकती है।
    3000 फीट ऊंचाई तक उड़ान।
    60 मिनट तक उड़ेगी एक बार में।

जाम का झंझट नहीं… लगातार बढ़ती आबादी और वाहनों की संख्या के कारण लोगों को अक्सर सड़कों पर जाम का सामना करना पड़ता है। फ्लाइंग कार आने के बाद उन्हें इस समस्या से मुक्ति मिलेगी।

लंदन में होगा अनावरण-
विनता एयरोमोबिलिटी अपनी कार के मॉडल का अनावरण लंदन में 5 अक्टूबर से शुरू हो रही हेलिटेक प्रदर्शनी में करेगी। इलेक्ट्रिक बैटरी से उड़ान भरने वाली यह कार वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग एयरक्राफ्ट की सुविधाओं से लैस होगी। कंपनी का दावा है कि फ्लाइंग कार अधिक टिकाऊ है, क्योंकि इसमें जैव ईंधन का इस्तेमाल होता है। कार में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ डिजिटल उपकरण पैनल हैं।

दुनियाभर में परीक्षण-
दुनियाभर में फ्लाइंग कारों को लेकर परीक्षण चल रहे हैं। कई देश कॉन्सेप्ट मॉडल से प्रोडक्शन मॉडल की तरफ रुख कर चुके हैं। अमरीका और यूरोपीय देशों में अर्बन एयर मोबिलिटी के व्यावसायिक संचालन की तैयारियां चल रही हैं। बोइंग और एयरबस जैसे स्थापित खिलाड़ी फ्लाइंग टैक्सियों के लिए जापान से हाथ मिला चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *