Road state : प्रखण्ड मुख्यालय से जोड़ने सड़क जर्जर ,आपातकाल में अस्पताल पहुँचना भी मुश्किल…

Road state : प्रखण्ड मुख्यालय से जोड़ने सड़क जर्जर ,आपातकाल में अस्पताल पहुँचना भी मुश्किल…

  • प्रखंड मुख्यालय से महज लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होरीलौंग गांव की जहां पहुंचने के लिए एक अदब से सड़क के लिए ग्रामीण तरस रहे।
  • कोलवरी एवं होरीलौंग के बीच स्थित सड़क का हाल भी बरवाडीह-मंडल मुख्य मार्ग की तरह ही दयनीय एवं चिंतनीय है।

NEWSTODAYJ लातेहार । बरवाडीह : एक तरफ केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार अपने अपने माध्यमों से राज्यों के विकास के लिए अलग-अलग प्रकार के दम भर्ती नजर आती है लेकिन सच्चाई इससे एकदम विपरीत है। हम बात कर रहे हैं प्रखंड मुख्यालय से महज लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होरीलौंग गांव की जहां पहुंचने के लिए एक अदब से सड़क के लिए ग्रामीण तरस रहे। होरीलौंग पहुंचने के लिए बरवाडीह मंडल मुख्य मार्ग का लोग इस्तेमाल करते हैं लेकिन पहले से ही मंडल बरवाडीह सड़क मार्ग अपनी मृत्यु शैया पर लेटा हुआ है वही बरवाडीह-मंडल मुख्य मार्ग से कोलियरी होते हुए।

यह भी पढ़े…Nok-Jhok Policemen : होमगार्ड और टाइगर मोबाईल जवान में वर्दी पहनने को लेकर हुआ,काफी देर तक नोंक -झोक…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

लगभग डेढ़ किलोमीटर अंदर होरीलौंग गांव स्थित है। कोलवरी एवं होरीलौंग के बीच स्थित सड़क का हाल भी बरवाडीह-मंडल मुख्य मार्ग की तरह ही दयनीय एवं चिंतनीय है सड़क की हालत ऐसी कि लोगों का पैदल चलना भी दुर्लभ है साथ ही साथ बारिश का मौसम में ये सड़के नहीं बल्कि तालाब का रूप ले लेती है जिस कारण होरीलौंग ग्राम का प्रखंड मुख्यालय से पूरी तरह संपर्क टूट जाता है अगर इस विकट परिस्थिति में किसी भी तरह की स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां उत्पन्न होती है।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : रैपिड एंटीजन किट से कोरोना जांच शिविर लगाई गई , RT PCR जाँच कर उन्हें समुचित इलाज के लिए कोविड अस्पताल शिफ्ट किया जायेगा…

तो बरवाडीह मुख्यालय में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भी सही समय पर पहुंचा नहीं जा सकता क्योंकि यहां इंसान चलने के रास्ते तो है ही नहीं वहां एंबुलेंस कैसे पहुंचेगी। जो की अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों की उदासीनता का जीता जागता बेहतरीन उदाहरण है। वही बारिश के मौसम में तो इसकी स्थिति और भी से बदतर हो जाती है।वही ग्रामीण अजित कु सिन्हा ने बताया कि यह स्थिति वर्षों से बनी हुई है केवल लोग अपना हित साधने के लिए बड़े-बड़े वादे करते हैं चुनाव खत्म हो जाता है तो जनता को भी भूल जाते हैं तो उनकी परेशानियों को वह कैसे याद रखेंगे। वही संबंधित विभाग भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

यह भी पढ़े…Handicapped pain : कोरोना का साइड इफेक्ट मुंबई से अपने रिक्शा लेकर पहुचे गिरिडीह , विकलांग प्रमाण पत्र बनवाने के लिए डीआरएम कार्यालय का लगा रहा चक्कर…

अगर गांव में किसी भी तरह की आपातकालीन स्थिति उत्पन्न हो जाए जैसे चिकित्सा तथा अन्य प्रकार की तो सही वक्त पर ना हम हॉस्पिटल पहुंच सकते हैं ना हॉस्पिटल से एंबुलेंस हमारे ग्राम में पहुच सकता है क्योकि अच्छी सड़के है ही नही।इस स्थिति में अप्रिय घटनाएं होने की संभावना हमेशा बनी रहती है जब सड़क ही नहीं सही है तो किसी भी तरह की सुविधाएं गांव तक कैसे पहुंच पायेगी। मैं सभी जनप्रतिनिधियों से मांग करता हूं कि कोलयरी-होरीलौंग मार्ग का निर्माण किया जाये ताकि हमारा गांव बारहों मास प्रखंड मुख्यालय से जुड़ा रहे तथा विकास के अन्य साधन हमारे गांव तक सही समय पर पहुंच सकें।

यह भी पढ़े…Buffer zone free : 25 कंटेनमेंट एवं बफर जोन से कर्फ्यू निरस्त , धारा 144 के तहत रहेगी निषेधाज्ञा…

होरीलौंग ग्राम के ग्रामीणों ने आज मनिका विधानसभा विधायक रामचंद्र सिंह के मंगरा स्थित आवास पर मुलाकात कर क्षेत्र की समस्याओं एवं मांगों से अवगत कराया। ग्रामीणों ने बरवाडीह प्रखंड से होरीलौंग को जोड़ने वाले मुख्य मार्ग बनवाने के साथ-साथ क्षेत्र में छठ घाट रोड देवी मंदिर तथा मुक्तिधाम बनवाने की मांग की।

यह भी पढ़े…Covid19 Test : कोरोना जांच के लिए प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी समेत 304 लोगों ने दिया सैंपल…

वही विधायक रामचंद्र सिंह ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि जल्द से जल्द ग्रामीणों के मांगों को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा ताकि क्षेत्र में विकास की नई पहल की जा सके मैं मानता हूं कि जब तक गांव का विकास नहीं होगा तब तक झारखंड का विकास नहीं होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here