• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

RAMJAAN,NEWS.रमजान के रोजा फर्ज के साथ सदका ए फितर तमाम मुसलमानों पर वाजिब:हाजी मोहिउद्दीन अशरफी

1 min read

रमजान के रोजा फर्ज के साथ सदका ए फितर तमाम मुसलमानों पर वाजिब:हाजी मोहिउद्दीन अशरफी

DHANBAD:NEWSTODAYJ,हज़रत इब्ने उमर रजिअल्लाहू अंह रिवायत करते हैं रसूलअल्लाह सल्लल्लाहू अलेहै वालेही वसल्लम ने गुलाम और आजाद मर्द और औरत छोटे और बड़े सब मुसलमानों पर सदका ए फितर वाजिब किया है.

 

रमजान के पाक महीने में फितर को लेकर क्या कहते है हाजी कारी गुलाम मोहिउद्दीन अशरफी प्रिंसिपल जामिया।

इसी तरह हजरत अबू हुरैरा रजि अल्लाहू अंह से रिवायत है के रसूलअल्लाह सल्लल्लाहू अलेही वालेही वसल्लम ने फरमाया सदका ए फितर हर तवंगर पर वाजिब है।शरअ की रौ से तवंगर ऐसे शख्स को कहते हैं जिस पर जकात वाजिब हो या उस पर जकात तो वाजिब नहीं लेकिन उसके पास असबाब जैसे घर कपड़े और घर का सामान वगैरा हो के जितनी कीमत पर जकात वाजिब होती है

 

यह भी पढ़ें….Dhanbad News : विश्व बैंक की संपोषित योजना से प्रोत्साहन राशि की मांग कर रहे अनशन

 

 

खाह वह तिजारत का माल हो या ना हो और खाह उस पर साल गुजरे या ना गुजरे ऐसी सूरत में उस शख्स पर सदका ए फितर अदा करना वाजिब है.सदका ए फितर का हुक्म बानी ऐ इस्लाम हुजूर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वालेही वसल्लम ने उस साल दिया जिस साल

 

रमजान का रोजा फर्ज हुआ सदका ए फितर गरीबों और मिस्कीनो को दिया जाता है इसको फितराना भी कहते हैं

 

ईसका अदा करना हर मालदार शख्स के लिए जरूरी है ताके गरीब और मिस्कीन लोग भी ईद की खुशियों में शरीक हो सके और ईलावा अजी सदका ए फितर रोजेदार को फुजुल और फहश हरकात से पाक करने का जरिया हैहज़रत इब्ने अब्बास रजि अल्लाह हू अंह से रिवायत है के

 

 

हुजूर नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वा आलीही वसल्लम ने सदका ए फितर को इसलिए वाजिब करार दिया है के यह रोजादार के बेहूदा कामू और फहस बातों की पाकी और मिस्कीन के लिए खाने का बाएस बनता है! इस साल जिला धनबाद में तनजिम अहले सुन्नत धनबाद ने मुत्तफाका तौर पर सदका ए फितर का ऐलान 2 किलो 45 ग्राम गेहूं की कीमत ₹60 तय किया आप हजरात इस साल फितराना ₹60 फिकस अदा करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें