Ram Mandir Bhoomipujan2020 : अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन कल , सभी करें अपनी घरों में राम जी की आरती…

Ram Mandir Bhoomipujan2020 : अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन कल , सभी करें अपनी घरों में राम जी की आरती…

  • सभी राम भक्तों को जिस पलों का वर्षों से इंतजार था वो अब कुछ घंटों में ही खत्म होने वाला है।
  • महामारी कोरोना वायरस के कारण अयोध्या में ज्यादा भीड़ इकट्ठा होने की इजाजत नहीं दी गई है।

NEWSTODAYJ :(ब्यूरो रिपोर्ट) अयोध्या में कल यानी कि 5 /08/2020 को होने जा रहा है अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन ,सभी राम भक्तों को जिस पलों का वर्षों से इंतजार था वो अब कुछ घंटों में ही खत्म होने वाला है. कल यानि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन करेंगे।

यह भी पढ़े…Road Accident : ट्रक की चपेट में मोटरसाइकिल आने से बेटा ,बेटी और पिता की दर्दनाक मौत , परिवार वालो में मातम पसरा…

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

और ऐतिहासिक पलों का गवाह बनने के लिए सभी राम भक्त आतुर हैं. लेकिन महामारी कोरोना वायरस के कारण अयोध्या में ज्यादा भीड़ इकट्ठा होने की इजाजत नहीं दी गई है. लेकिन जो भक्त अयोध्या नहीं पहुंच पा रहे हैं और उन कीमती पलों का हिस्सा बनना चाहते हैं ।

यह भी पढ़े…Dhanbad : चोरो की हौसले बुलंद सेंधमारी कर 20,000 हजार की मोटरसाइकिल पार्ट्स चोर ले भागे…

वो अपने घरों में ही राम की भक्ति कर सकते हैं. घर में सभी राम भक्त भगवान राम की आरती कर उनकी पूजा-अर्चना करें. राम आरती करने से सिया पति रामचंद्र अपने भक्तों के सारे दुखों को हर लेते हैं।

यह भी पढ़े…Dhanbad : जनता दरबार स्थगित ,सोशल मीडिया पर उपायुक्त से कर सकते हैं शिकायत ,बीडीओ, सीओ को समर्पित कर सकते हैं आवेदन…

राम जी की आरती।

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्।
नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्।
पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्।।

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्।
रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम्।।

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं।।

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।
मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम्।।

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों।
करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो।।

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली।
तुलसी भवानी पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली।।

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।
मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here