Protest : कांग्रेस 20 को करेगी बिजली विभाग के मुख्य अभियंता के घर के बाहर प्रदर्शन…

0
न्यूज़ सुने

Protest : कांग्रेस 20 को करेगी बिजली विभाग के मुख्य अभियंता के घर के बाहर प्रदर्शन…

NEWSTODAYJ रांची : झारखंड कांग्रेस ने बिजली विभाग और केईआई कंपनी की लापरवाही से पिछले 24 घंटे में देवघर और रांची के ओरमांझी में अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत पर गहरी शोक-संवेदना व्यक्त की है।कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव और राजेश गुप्ता ने मृतक के परिजनों को मुआवजा देने और दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़े…Ivory smuggler : हाथी दांत तस्कर एक बार फिर सक्रिय , जंगली हाथी की बिजली के तार से करंट लगाकर हत्या कर दी…

प्रवक्ताओं ने शनिवार को कहा कि पिछले 10 दिनों के अंदर 18 लोगों की मौत बिजली के करंट लगने से हुई है जो काफी दुखद, चिंतनीय और दुर्भाग्यपूर्ण है, जिसकी जितनी भी निन्दा की जाए वह कम होगी। पार्टी ने बिजली करंट लगने से लगातार हो रही दुर्घटनाओं के खिलाफ पोल-खोलो अभियान के तहत रविवार को बिजली विभाग के मुख्य अभियंता श्रवण कुमार के घर के बाहर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़े…Sexreach Revealed : होटल में देह व्यापार का धंधा का भंडाफोड़ , छ्ह लोग पुलिस हिरासत में…

इस मौके पर हादसे में मारे गये लोगों को मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि भी दी जाएगी। प्रवक्ताओं ने कहा कि राजधानी रांची सहित राज्य के अलग-अलग हिस्सों में बिजली विभाग और केईआई की लापरवाही से निरंतर हादसे हो रहे है। इसके लिए पूरी तरह से बिजली विभाग के लापरवाह अधिकारी और अभियंता ही जिम्मेवार है। पार्टी की ओर से हादसों के शिकार लोगों की पहली सूची जारी की चुकी है, जल्द ही दूसरी सूची भी जानकारी की जाएगी। उन्होंने बताया कि रविवार शाम 6.30 बजे मुख्य अभियंता श्रवण कुमार के घर के बाहर सोशल मीडिया के माध्यम से पोल-खोलो अभियान के तहत उनकी करतूतों का खुलासा किया जाएगा।

यह भी पढ़े…Arrested taking bribe : पंचायत सेवक दो हज़ार घुस लेते चढ़ा एसीबी के हत्थे…

इस मौके पर मोमबत्ती जलाकर हादसे में मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि भी दी जाएगी।प्रवक्ताओं ने कहा कि कोरोना काल में राज्य सरकार की ओर से पिछले छह महीने से अधिक समय से ट्रेजरी से छोटे-छोटे हजारों संवेदकों के बकाया भुगतान पर रोक लगा दी गयी है, लेकिन इस रोक के बावजूद केईआई कंपनी को 60 करोड़ रुपये का भुगतान किस तरह से कर दिया जाता है यह भी जांच विषय है। उन्होंने कहा कि अरबों रुपये की लागत से केबुल बिछाने का काम किया जा रहा है, जिस तरह से पूरे शहर में जगह-जगह गड्ढे खोद कर छोड़ दिये गये है और उसमें बिजली प्रवाहित हो रही है, वह लोगों के लिए खतरनाक साबित हो रही है।

यह भी पढ़े…Corona patient discharge : सात अस्पताल से कोरोना को हराकर 107 हुए डिस्चार्ज…

उन्होंने इन सारी गड़बड़ियों के लिए पूर्ववर्ती रघुवर दास सरकार को जिम्मेवार ठहराते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकार में ही केबुल बिछाने के लिए बहार की एक असक्षम कंपनी को ठेका दिया गया और उनके कार्यकाल में ही पदस्थापित कुछ अधिकारियों और अभियंताओं द्वारा ही अब इन्हें संरक्षण दिया जा रहा है, लेकिन अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चलने वाली गठबंधन सरकार में इस तरह की मनमानी व लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here