Politics News : राज्य सरकार की उदासीनता व वादाखिलाफी पर सवाल , रोजगार के मामले में हेमंत सरकार विफल – पूर्व मुख्यमंत्री…

0
न्यूज़ सुने

Politics News : राज्य सरकार की उदासीनता व वादाखिलाफी पर सवाल , रोजगार के मामले में हेमंत सरकार विफल – पूर्व मुख्यमंत्री…

NEWSTODAYJ : रांची। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर धीमी हुई आर्थिक गतिविधियों के बीच अपने झारखंड प्रदेश वापस आये मजदूरों ने अब पुनः रोजगार की तलाश में दूसरे राज्यों में पलायन करना प्रारंभ कर दिया है। रोजगार की तलाश में मजदूरों के महानगरों के रुख करने से पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बुधवार को राज्य सरकार की उदासीनता व वादाखिलाफी पर सवाल उठाया है।

यह भी पढ़े…Kangana Ranaut : कंगना रनौत के ऑफिस पर बुलडोजर चला झारखंड में राजनीति तेज , महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या…

दास ने कहा कि लॉक डाउन के प्रारंभिक दिनों में बड़े बड़े वादे कर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रवासी श्रमिकों को झारखंड प्रदेश वापस बुलाया। उन दिनों प्रवासी श्रमिकों व प्रवासी छात्रों के समस्याओं के प्रति राज्य सरकार के रुख और रवैये को सबने देखा कि कैसे अन्य राज्यों में फंसे मजदूरों व छात्रों को उनके हालात पर छोड़ दिया गया।उन्होंने कहा कि प्रदेश वापसी के समय शासन एवं प्रशासन द्वारा प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने का वादा जोर-शोर से किया गया था।

यह भी पढ़े…Containment Zone : धनबाद में करोना मिलने के बाद 14 कंटेनमेंट जोन का निर्माण, लगाया गया कर्फ्यू…

लेकिन वास्तविकता यह है कि बड़े पैमाने पर लौटे मजदूरों के समक्ष बड़ी समस्या रोजगार को लेकर खड़ी हुई। राज्य सरकार ने प्रवासी मजदूरों को राज्य में रोजगार के आश्वासन पर प्रदेश बुलाया। लेकिन राज्य सरकार द्वारा रोजगार मुहैया कराने की दिशा में कोई कार्ययोजना नहीं होने के कारण सभी कामगार मजदूरों की आशाएं टूट चुकी है।सरकार के द्वारा कोई ठोस पहल ना करने व पूर्ण रूप से निष्फल होने के कारण भोले-भाले आदिवासी व कामगार मजदूर अब वापस दूसरे प्रदेश पलायन पर विवश हो रहे हैं।

यह भी पढ़े…Mannequin combustion : आरक्षण व पांच सूत्री मांग , मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और बाबूलाल मरांडी का पुतला दहन…

राज्य सरकार के बातों पर विश्वास करने के पश्चात सरकार ने प्रवासी मजदूरों के साथ विश्वासघात किया है। रोजगार के लिए प्रवासी मजदूर दर-दर भटक रहे हैं। प्रवासी मजदूरों की दिखाई दे रहे दर्द से सरकार के सभी दावे हवा-हवाई प्रतीत हो रहे हैं। केवल बड़े-बड़े विज्ञापनों में रोजगार के वादे सिमट कर रह गए। श्री दास ने सरकार के नियत पर सवाल उठाते हुए कहा कि साल में 5 लाख युवाओं को रोजगार देने की बात करने वाली सरकार द्वारा रोजगार के एक अवसर सृजन करने की बात तो दूर, उनकी गलत नीतियों के कारण प्रदेश में 2400 करोड़ निवेश वाली प्रदेश की सबसे बड़े टेक्सटाइल कंपनी ‘ओरिएंट क्राफ्ट’ में ताले लग गए। जिससे हजारों युवा बेरोजगार हो गए। राज्य में भाजपा सरकार के टेक्सटाईल पॉलिसी से प्रभावित होकर निवेश को आये अरविंद मिल्स और किशोर एक्सपोर्ट्स जैसे बड़ी कंपनियां भी जाने की तैयारी कर रही है।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : कोविड-19 से तनाव, अकेलापन महसूस करने वालों को मिलेगी काउसलिंग…

उन्होंने पूर्व की भाजपा सरकार के दौरान प्रारंभ किये गए टेक्सटाइल कंपनी का जिक्र करते हुए कहा कि टेक्सटाइल व फुटवेयर के क्षेत्र में हजारों युवाओं को रोजगार मिला। रोजगार की तलाश में तमिलनाडु ,त्रिचूर में काम कर रही झारखंड की बेटियों को अपने प्रदेश में रोजगार मिला। लेकिन हेमंत सरकार की गलत नीतियों व अड़ियल रवैये ने उन हुनरमंद युवाओं का रोजगार भी छीन लिया। सरकार गठन के 8 महीने बाद भी राज्य सरकार द्वारा विकास के दिशा में ना कोई नीति दिखे हैं और ना ही कोई सकारात्मक प्रयास।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here