PERMISSION : सरकार ने बालू ढुलाई की दी इजाजत ,सभी प्रकार के वाहनों से होगी बालू ढुलाई…

0
[URIS id=45547]
न्यूज़ सुने
PERMISSION : सरकार ने बालू ढुलाई की दी इजाजत ,सभी प्रकार के वाहनों से होगी बालू ढुलाई…
  • खान सचिव के श्री निवासन ने इससे संबंधित पत्र सभी उपायुक्तों को भेज दिया है।
  • धीरे-धीरे यह बात समझ में आने लगी कि सरकार के इस फैसले से रोजगार कम बढ़ा, बेरोजगारी बढ़ती गई।

NEWSTODAYJ रांची : राज्य सरकार ने बालू ढुलाई के लिए सिर्फ ट्रैक्टरों के उपयोग की बाध्यता को समाप्त कर दिया है। पिछले महीने 24 जून को खान सचिव द्वारा आदेश जारी किए जाने के बाद ट्रैक्टरों के अलावा दूसरे वाहनों से बालू ढुलाई पर पाबंदी लगा दी गई थी.

यह भी पढ़े…SEXUAL EXPLOITATION : नाबालिग लड़की को डरा धामकर रातभर करता रहा यौन शोषण जांच में जुटी पुलिस…

सरकार का तर्क यह था कि ट्रैक्टरों के उपयोग से अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सकेगा लेकिन वास्तविकता में ऐसा नही हो सका और सरकार को अपना फैसला वापस लेना पड़ा.सरकार ने सोमवार को नया आदेश जारी कर स्पष्ट कर दिया है कि अब सभी प्रकार के वाहनों से बालू की ढुलाई हो सकेगी.खान सचिव के श्री निवासन ने इससे संबंधित पत्र सभी उपायुक्तों को भेज दिया है.ट्रैक्टरों से ही बालू की ढुलाई करने के सरकारी आदेश का परिणाम यह निकला कि लोगों को अधिक कीमत दे कर बालू की खरीदारी करनी पड़ी.

यह भी पढ़े…LOCKDOWN : झारखंड में एक बार फिर से लॉकडाउन-1 की तरह सख्ती की जा सकती , 22 को कैबिनेट बैठक होने के बाद…

राज्य में ट्रैक्टरों की संख्या कम है और हजारों की संख्या में ट्रेलर बिना निबंधन के चल रहे हैं.खेती के मौसम में लोग ट्रैक्टरों का इस्तेमाल सामान ढोने के लिए नहीं करते हैं.राज्य सरकार पहले ही नियम बना चुकी है कि बालू ढोने में वही वाहन उपयोग होंगे, जिनका निबंधन जेएसएमडीसी से हो.

यह भी पढ़े…CORONA UPDATED : 178 संक्रमित 27 पुलिसकर्मी व चार डॉक्टर भी शामिल , 5 लोगो की मौत…

ऐसे में कई ट्रैक्टर इसके दायरे से बाहर थे.ट्रैक्टरों का उपयोग छोटी दूरी के लिए और कम वजन के लिए मुफीद होता है लेकिन रांची समेत तमाम जिलों में बालू 40 से 80 किलोमीटर की दूरी से शहरों में पहुंचता है.इस फैसले के बाद से हजारों की संख्या में हाईवा ऑपरेटरों ने काम बंद कर दिया था, जिससे सैकड़ों लोग बेरोजगार हो गए थे.धीरे-धीरे यह बात समझ में आने लगी कि सरकार के इस फैसले से रोजगार कम बढ़ा, बेरोजगारी बढ़ती गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here