NEP-2020 : लर्निंग को इंटीग्रेट एवं आनंद पर आधारिक अनुभव से पूर्ण बनाने के लिए एक राष्ट्रीय करिकुलम फ्रेमवर्क विकसित किया जाएगा – PM MODI…

0
[URIS id=45547]
न्यूज़ सुने

NEP-2020 : लर्निंग को इंटीग्रेट एवं आनंद पर आधारिक अनुभव से पूर्ण बनाने के लिए एक राष्ट्रीय करिकुलम फ्रेमवर्क विकसित किया जाएगा – PM MODI…

NEWSTODAYJ : नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 (NEP-2020) के तहत ’21 वीं सदी में स्कूली शिक्षा’ पर एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे हैं। कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल भी उपस्थित हैं। बता दें केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से नई शिक्षा नीति को देशभर के स्कूलों तक पहुंचाने के लिए एक सम्मेलन का आयोजन किया गया है।

यह भी पढ़े…Eklavya School Building : आदिवासी बहुल इलाके दो एकलव्य विद्यालय निर्माण की स्वीकृति मिली – सांसद…

इस कार्यक्रम के जरिए देशभर के स्कूलों के शिक्षकों और प्रधानाचार्यों को वर्चुअल जोड़ा गया है।प्रधानंमत्री ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति नए भारत की, नई उम्मीदों की, नई आवश्यकताओं की पूर्ति का माध्यम है। इसके पीछे पिछले चार-पांच वर्षों की कड़ी मेहनत है, हर क्षेत्र, हर विधा, हर भाषा के लोगों ने इस पर दिन रात काम किया है। लेकिन ये काम अभी पूरा नहीं हुआ है। कुछ दिन पहले शिक्षा मंत्रालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के बारे में देशभर के शिक्षकों से #MyGov पर उनके सुझाव मांगे थे।

यह भी पढ़े…Viral Video : चावल एक किलो कम देते हैं कार्डधारियों को , वीडियो हो रहा हैं तेजी से वायरल(देखें विडियो)…

एक सप्ताह के भीतर ही 15 लाख से ज्यादा सुझाव मिले हैं। ये सुझाव राष्ट्रीय शिक्षा नीति को और ज्यादा प्रभावी तरीके से लागू करने में मदद करेंगे।उन्होंने आगे कहा, आज हम सभी एक ऐसे क्षण का हिस्सा बन रहे हैं जो हमारे देश के भविष्य निर्माण की नींव डाल रहा है। एक ऐसा क्षण हैं जिसमें नए युग के निर्माण के बीज पड़े हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के भारत को नई दिशा देने वाली है। पिछले तीन दशकों में दुनिया का हर क्षेत्र बदल गया, हर व्यवस्था बदल गई। इन तीन दशकों में हमारे जीवन का शायद ही कोई पक्ष हो जो पहले जैसा हो। लेकिन वो मार्ग, जिस पर चलते हुए समाज भविष्य की तरफ बढ़ता है, हमारी शिक्षा व्यवस्था, वो अब भी पुराने ढर्रे पर ही चल रही थी।

यह भी पढ़े…High Court : चारा घोटाला का आरोपी लालू यादव की जमानत याचिका पर आज हाईकोर्ट में सुनवाई…

पुरानी शिक्षा व्यवस्था को बदलना उतना ही आवश्यक था जितना किसी खराब हुए ब्लैक बोर्ड को बदलना आवश्यक होता है।प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, इस शिक्षा निति में शिक्षक और छात्र के लिए क्या है? और सबसे अहम इसे सफलतापूर्वक लागू करने के लिए क्या करना है, कैसे करना है? ये सवाल जायज भी हैं और जरूरी भी हैं। इसीलिए हम सभी इस कार्यक्रम में इकट्ठा हुए हैं ताकि चर्चा कर सकें और आगे का रास्ता बना सकें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के ऐलान होने के बाद बहुत से लोगों के मन में कई सवाल आ रहे हैं। ये शिक्षा नीति क्या है? ये कैसे अलग है। इससे स्कूल और कॉलेजों की व्यवस्थाओं में क्या बदलाव आएगा।प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा, कोरोना से बने हालात हमेशा ऐसे ही नहीं रहने वाले हैं।

यह भी पढ़े…National Education Policy : स्कूलों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने पर पीएम मोदी आज करेंगे शिक्षकों से बात…

बच्चे जैसे-जैसे आगे बढ़ें, उनमें ज्यादा सीखने की भावना का विकास हो। बच्चों में मैथामैटिकल थिंकिंग और साइंटिफिक टेंमपरमैंट विकसित हो, ये बहुत आवश्यक है। आज हम देखें तो प्री स्कूल की प्लेफुल एजुकेशन शहरों में में प्राइवेट स्कूलों तक ही सीमित है। ये शिक्षा व्यवस्था अब गांवों में भी पहुंचेगी, गरीब के घर तक पहुंचेगी। मूलभूत शिक्षा पर ध्यान इस नीति का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत फाउंडेशन लिटरेसी एंड न्यूमेरेसी के विकास को एक राष्ट्रीय मिशन के रूप में लिया जाएगा।प्रधानमंत्री ने कहा, हमें शिक्षा में आसान और नए-नए तौर-तरीकों को बढ़ाना होगा। हमारे ये प्रयोग, न्यू एज लर्निंग का मूलमंत्र होना चाहिए- इंगेज, एक्सप्लोर, एक्सपीरियंस, एक्सप्रेस और एकेसल।

यह भी पढ़े…Dhanbad News : 12 सितंबर को आरएटी स्पेशल ड्राइव के तहत , चिरकुंडा, एनएच-2 चेक पोस्ट सहित 11 स्थानों पर की जाएगी 5800 लोगों की जांच…

हमारे देशभर में हर क्षेत्र की अपनी कुछ न कुछ खूबी है, कोई न कोई पारंपरिक कला, कारीगरी, प्रोडक्ट हर जगह के मशहूर हैं। छात्रों को उन करघों, हथकरघों में ले जाकर, दिखाएं आखिर ये कपड़े बनते कैसे हैं? स्कूल में भी ऐसे स्किल्ड लोगों को बुलाया जा सकता है। कितने ही प्रोफेशन हैं जिनके लिए डीप स्किल्स की जरूरत होती है, लेकिन हम उन्हें महत्व ही नहीं देते। अगर छात्र इन्हें देखेंगे तो एक तरह का भावनात्मक जुड़ाव होगा, उनका सम्मान करेंगे।

यह भी पढ़े…Coronavirus Jharkhand : आज झारखंड राज्य के जिले में कुल 937 नए मामले, सबसे अधिक राजधानी से , दो की मौत…

हो सकता है बड़े होकर इनमें से कई बच्चे ऐसे ही उद्योगों से जुड़ें, उन्हें आगे बढ़ाएं।प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, राष्ट्रीय शिक्षा नीति को इस तरह तैयार किया गया है ताकि सिलेबस को कम किया जा सके और फंडामेंटल चीजों पर ध्यान केन्द्रित किया जा सके। लर्निंग को इंटीग्रेट एवं आनंद पर आधारिक और अनुभव से पूर्ण बनाने के लिए एक राष्ट्रीय करिकुलम फ्रेमवर्क विकसित किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here