Migrant Workers: प्रतिदिन वापस लौट रहे हजारों प्रवासी मजदूर,मजदूरों को पेट पालना हुआ मुश्किल…

0
न्यूज़ सुने

Migrant Workers: प्रतिदिन वापस लौट रहे हजारों प्रवासी मजदूर,मजदूरों को पेट पालना हुआ मुश्किल…

  • काम की तलाश में एक बार फिर प्रवासी मजदूर यूपी, बिहार और झारखंड से वापस लौटने लगे हैं।
  • दिल्ली के आनंद विहार बस स्टैंड पर रक्षाबंधन के बाद से ही रोजाना हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घरों से वापस आ रहे हैं।

NEWSTODAYJ झारखंड : कोरोना काल में लगे लॉकडाउन के दौरान हजारों प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर लौट गए थे, लेकिन काम की तलाश में एक बार फिर प्रवासी मजदूर यूपी, बिहार और झारखंड से वापस लौटने लगे हैं।दिल्ली के आनंद विहार बस स्टैंड पर रक्षाबंधन के बाद से ही रोजाना हजारों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घरों से वापस आ रहे हैं।

यह भी पढ़े…Coronavirus: देश में कोरोना मरीजों का आकड़ा 29 लाख के पार, मरने वालों की संख्या 55 हजार के करीब…

किसी के मालिक, तो किसी के ठेकेदार ने बुलाया, तो कोई नौकरी की तलाश में दिल्ली वापस आ रहा है।राम चन्दर आजमगढ़ से फिर दिल्ली वापस आए हैं। 5 महीने पहले कोरोना की वजह से अपने घर चले गए थे, लेकिन गांव में काम न होने की वजह से दिल्ली वापस आना पड़ा है।उन्होंने बताया, “जिस कंपनी में वो काम करते थे, उसके मालिक ने फोन करके वापस बुलाया है. गांव में ज्यादा काम नहीं है, कमाने के लिए तो बाहर निकलना ही पड़ेगा। मेरी दो लड़कियां और एक लड़का है, इनका पेट कौन पालेगा।राम चन्दर दिल्ली के नांगलोई में जूते की कंपनी में काम करते थे।

यह भी पढ़े…Cattle recovered : पशुवध के लिए ले जाए जा रहे आठ मवेशियों को पुलिस ने किया जब्‍त,पुलिस को आते देख तस्‍कर भाग निकले…

अब फिर से उसी कंपनी में काम करेंगे।फिलहाल जब से प्रवासी मजदूर वापस लौटने लगे हैं, तब से आनंद विहार बस स्टैंड पर रूट नम्बर 236, 165, 534, 469, 473, 543 से जाने वाली सवारियों की संख्या में इजाफा हुआ है. ये सभी बसें नांगलोई, महरौली, और कापसहेड़ा बॉर्डर की ओर जाती हैं. हालांकि बस स्टैंड के बाहर भी सैंकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर मौजूद रहते हैं।

यह भी पढ़े…Land dispute : जमीन विवाद में खूनी संघर्ष 5 घायल , पुलिस घटनास्थल पहुंचकर मामले की जांच पड़ताल में जुट गई है…

संभल के रहने वाले दीपक दिल्ली में फल की ठेली लगाते थे. होली पर त्यौहार मनाने अपने गांव चले गए. उसके बाद लॉकडाउन लग गया, जिसकी वजह से वहीं फंसे रहे गये. उन्होंने बताया, “होली पर घर गया था, उसके बाद वहीं रह गया. इधर मकान मालिक 5 महीने का किराया मांग रहा है. अब जाकर वापस आयें हैं फिर से फल की ठेली लगाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here